लखनऊ में तेंदुए की दहशत, पकड़ने के लिए लगाया पिंजरा

लखनऊ। चिनहट क्षेत्र में तेंदुए की मौजूदगी का पता लगाने के लिए वन विभाग की टीम ने शनिवार को एक दर्जन से अधिक गांवों के नजदीक खेतों व झाड़ियों में काम्बिंग की। ग्रामीणों द्वारा बताये गये स्थानों पर भी पद चिह्नों की खोजबीन की गयी। वन विभाग को तेंदुए के पदचिन्ह तो नहीं मिले हैं लेकिन गोयल अपार्टमेंट की सीसीटीवी का बारीकी से निरीक्षण करने पर उसमें कैद जानवर को तेंदुआ जैसा ही बताया गया है।

तेंदुए को पकड़ने के लिए वन विभाग ने गनेशपुर गांव के जनदीक पिंजरा लगा दिया है। पिंजरे में रात को मांस का बड़ा टुकड़ा बांधा जाएगा। शुक्रवार को लखनऊ बाराबंकी सीमा के निकट बसे गांव गोहलिया में तेंदुए की मौजूदगी की सूचना से क्षेत्र में हड़कम्प मच गया था। ग्रामीणों के बाद चिनहट के गोयल अपार्टमेंट के चौकीदार ने भी जानकारी दी थी कि तेंदुए जैसा जानवर अपार्टमेंट की दीवार कूदकर अन्दर आया था। गोयल अपार्टमेंट में लगे सीसीटीवी कैमरे को चेक करने पर एक जानवर को प्रवेश करते पाया गया।

गोहलिया गांव के कुछ ग्रामीणों ने यह भी अफवाह फैलायी कि गांव के अतुल यादव पर तेंदुए ने पंजा मारा है। तेंदुए की जानकारी मिलने पर वन विभाग की टीम ने मौके पर जाकर जांच की तो पाया कि अतुल यादव नाम के युवक के हाथ पर पंजे के निशान न होकर फिसलकर गिरने की खरोच है। वन विभाग की टीम ने क्षेत्र में काम्बिंग की लेकिन तेंदुए का कहीं भी निशान नहीं पाया गया। शनिवार को गनेशपुर रहमानपुर गांव के लोगों ने सूचना दी कि तेंदुए ने एक कुत्ते पर हमला करके उसे मार डाला है।

सूचना मिलने पर वन विभाग की टीम गनेशपुर पहुंची तो मौके पर मृत कुत्ता पाया गया। डीएफओ लखनऊ मनोज सोनकर तथा वरिष्ठ वन्यजीव चिकित्सक डा. उत्कर्ष शुक्ल ने भी मौके का निरीक्षण किया। वन अफसरों का कहना है कि कुथे को तेंदुए ने नहीं मारा है। टीम ने मौके पर मिले पंजों के नमूने एकत्रित कर लिए हैं। क्षेत्र में तेंदुए की मौजूदगी की जानकारी के लिए वन विभाग ने गांव के किनारे के जंगल में पिंजरा लगाने के साथ ही एक टीम को तैनात कर दिया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper