लखनऊ में महापौर ने रैन बसेरा में किया लाइब्रेरी का उद्घाटन

लखनऊ: संयुक्ता भाटिया, महापौर द्वारा जोन-01 के अन्तर्गत जियामऊ प्राइमरी पाठशाला के पास स्थित स्थाई रैन बसेरा में लाइब्रेरी का उद्घाटन किया गया। उक्त अवसर पर श्री पंकज सिंह, अपर नगर आयुक्त, जोनल अधिकारी जोन-1 एवं उम्मीद संस्था के सदस्य मौजूद थे। तत्पश्चात् किये गये निरीक्षण के उपरान्त समस्त नगर अभियान्ताओं एवं जोनल अधिकारियों को पुनः निर्देशित किया गया कि लखनऊ नगर निगम द्वारा संचालित शेल्टर होम के सम्बन्ध में पूर्व में दिये गये निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाये। जिससे किसी भी आश्रयहीन को ठंड के कारण समस्या उत्पन्न न होने पाये।

वर्तमान शीत ऋतु के दृष्टिगत निराश्रितो को बढ़ती हुई ठण्ड से बचाव तथा उनके आश्रय की व्यवस्था हेतु नगर निगम लखनऊ द्वारा शहर क्षेत्र में 15 स्थाई (403 बेड क्षमता के साथ) रैन बसेरा/शेल्टर होम एवं 15 अस्थाई रैन बसेरे/शेल्टर होम (488 बेड क्षमता के साथ) स्थापित किये गये है। जिसमें सभी आवश्यक वस्तुयें/व्यवस्थायें यथा- बेड, बिस्तर, कम्बल, नहाने के गर्म पानी हेतु गीजर, कमरे को गर्म रखने के लिये ब्लोवर, शौचालय की व्यवस्था, कोविड प्राविधानों के क्रम में थर्मल स्कैनर, हैण्ड सेनिटाइजर, मास्क, फागिंग, सेनेटाइजेशन, एन्टीलार्वा का छिड़काव एवं फस्र्ट-एड बाॅक्स की उपलब्धता, प्रकाश की विद्युत/वैकल्पिक व्यवस्था, टेलीविजन, भोजन, पीने के पानी की व्यवस्था, अलाव के लिये लकड़ी की व्यवस्था एवं स्वच्छता/सफाई आदि की अनिवार्य रूप से समुचित व्यवस्था की गयी है, सुरक्षा के दृष्टिगत लक्ष्मण मेला मैदान शेल्टर होम, नबी उल्लाह रोड डी0जी0पी0 कार्यालय के पास, अमीनाबाद झण्डे वाला पार्क के निकट, जिया मऊ प्राइमरी पाठशाला के पास, चकबस्त रोड पर कचेरी के पास, कानपुर रोड स्थित नगर निगम पुरानी चैकी, भारतेन्दु हरिश्चन्द्र वार्ड ताडीखाना रेलवे क्रासिंग के पास स्थापित रैन बसेरा/शेल्टर होम में सी0सी0टी0वी0 कैमरा भी लगाये गये।

आश्रयहीन व्यक्ति यहा पर बिना किसी परेशानी के रह सके। इसके लिये सभी आवश्यक व्यवस्थायें सुनिश्चित की गयी है। साथ ही रूकने वाले आश्रयहीन व्यक्तियों की पहचान हेतु उनको अपना पहचान पत्र दिखाने की व्यवस्था लागू है। यदि किसी के पास पहचान पत्र नही होता है तो ऐसे व्यक्तियों की सूचना सम्बंधित शेल्टर होम के प्रभारी द्वारा स्थानीय थाने को प्रतिदिन उपलब्ध कराने हेतु स्पष्ट निर्देश दिए गये है। जिसके क्रम में यह सूचना प्रतिदिन सम्बन्धित थाने को उपलब्ध करायी जाती हैं। विशेष रूप से प्रत्येक जोनो में एक क्लॉथ बैंक भी संचालित किया गया है जिसके माध्यम से निराश्रित लोगों को यथा- आवश्यकतानुसार वस्त्रों की मदद की जाती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper