लखनऊ में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, इस बड़े होटल में बंधक बनाकर रखी गई थी युवतियां

लखनऊ: राजधानी लखनऊ की पुलिस ने विभूतिखंड के होटल रूद्रा इन में छापा मारकर बड़े सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है। इस मामले में पुलिस ने होटल के मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया है। मौके से गैरप्रांत की कई युवतियां पकड़ी गई हैं। उनका आरोप है कि उनसे यहां पर जबरन गलत काम कराया जा रहा था। पुलिस आयुक्त ने इस मामले की जांच एसीपी विभूतिखंड स्वतंत्र कुमार सिंह को सौंप दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर को सेक्स रैकेट के बारे में कुछ दिन पहले किसी ने कॉल कर सूचना दी थी। कॉल करने वाले ने गैरप्रांत की चार युवतियों को बंधक बनाकर गलत काम कराने के बारें में बताया था। इसके बाद कमिश्नर ने डीसीपी पूर्वी को निर्देश दिया कि इसकी जांच एसीपी विभूतिखंड को सौंपें। एसीपी ने इस बारे में और जानकारी हासिल की। इसके बाद रविवार देर रात होटल रुद्रा इन में छापा मारा गया। जिसके बाद से सेक्स रैकेट का खुलासा हुआ।

रचना: राजीव कांत जैन

होटल के अंदर अलग-अलग कमरों में चार युवतियां मिलीं। सभी युवतियां गैर प्रांत से बुलाई गई थीं। युवतियों ने आरोप लगाया कि होटल के प्रबंधक व अन्य जिम्मेदारों ने उनसे गलत काम करने को मजबूर किया है। पुलिस ने युवतियों को वहां से मुक्त कराया। पुलिस ने इस मामले में होटल मैनेजर विवेक पांडेय को अरेस्ट किया है। इस रैकेट में कई अन्य लोगों के शामिल होने का भी अंदेशा है। फिलहाल पुलिस इस मामले में जांच कर रही है।

एसीपी ने बताया कि पूछताछ में पता चला है कि पूनम नाम की महिला अपने साथियों संग युवतियों से जबरन गलत काम करवा रही थी। इस गिरोह में दीपक नाम का युवक भी शामिल हैं। पुलिस ने पूनम व दीपक सहित अन्य बिचौलियों की तलाश में दबिश देनी शुरू कर दी है। वहीं मुक्त कराई गई युवतियों की तहरीर पर चार लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper