लखनऊ विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर एके शर्मा की कोरोना से मौत

लखनऊ। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले स्वास्थ्य महकमे के लिए चुनौती बने हुए हैं। काफी कोशिशों के बाद भी संक्रमण की रफ्तार कम नहीं हो रही है। हालांकि प्रदेश में स्थिति नियंत्रित है। लेकिन, लोगों की लापरवाही सेहत पर भारी पड़ सकती है। इस बीच राजधानी में गुरुवार को लखनऊ विश्वविद्यालय के पूर्व परीक्षा नियंत्रक प्रोफेसर एके शर्मा की कोरोना से मौत हो गई।

लखनऊ विश्वविद्यालय परिसर में बुधवार को सात प्रोफेसर के कोरोना संक्रमित पाए जाने से हड़कंप मच गया था, इनमें सेवानिवृत प्रो. एके शर्मा भी शामिल थे। लखनऊ यूनिवर्सिटी शिक्षक संघ के अध्यक्ष डॉ. विनीत वर्मा के मुताबिक प्रो. शर्मा 2019 में सेवानिवृत हुए थे। वह जंतु विज्ञान विभाग कार्यरत थे और काफी दिनों तक परीक्षा नियंत्रक भी रहे। कोरोना संक्रमित होने पर उन्हें गोमतीनगर के एक मेयो अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उनका निधन हो गया। प्रोफेसर शर्मा पिछले कई दिनों से अपने व्यक्तिगत कार्यों के लिए लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन में आ रहे थे। उनके निधन पर शिक्षकों ने गहरा शोक जताया था।

इस बीच लखनऊ विश्वविद्यालय के नए परिसर में भी संक्रमण ने दस्तक दी है। गुरुवार को यहां एक महिला प्रोफेसर के संक्रमित होने की सूचना है। इसके अलावा कई अन्य शिक्षकों को तेज बुखार होने की शिकायत है। वहीं लोकबंधु अस्पताल के वर‍िष्‍ठ परामर्शदाता डॉ. एसके कटवानी भी कोरोना पॉज‍िट‍िव पाए गए हैं। बताया जा है कि वैक्सीन की दोनों डोज लेने के करीब एक माह बाद वह संक्रमित हुए हैं। कुछ दिन पहले वह गोवा गए हुए थे।

इस बीच कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर प्रदेश सरकार ने अब फोकस वैक्सीनेशन का निर्णय किया है। अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद के मुताबिक संक्रमण को रोकने के लिए समय-समय पर फोकस टेस्टिंग की जाती है, जिसमें स्कूल-कॉलेज, सरकारी कार्यालयों, दुकानदारों, रेहड़ी पटरी वालों, चालकों की बार-बार टेस्टिंग की जाती है। ये लोग जनता के बहुत ज्यादा सम्पर्क में आते हैं, इनकी फोकस टेस्टिंग का मकसद संक्रमण का स्तर पता लगाकर इसकी श्रंखला को तोड़ना है। उन्होंने कहा कि इसी तर्ज पर एक सप्ताह बाद फोकस वैक्सीनेशन भी प्रारम्भ किया जाएगा।

इसमें 45 वर्ष से अधिक उम्र वाले दुकानदारों, बैंकर्स, शिक्षकों, सरकारी कर्मचारियों, रेहड़ी पटरी दुकानदारों, रिक्शा-बस व ऑटो चालकों, मीडियाकर्मियों, अधिवक्ताओं का फोकस टीकाकरण किया जाएगा। इन लोगों का जनता से सम्पर्क बहुत ज्यादा होता है। हालांकि ये लोग आज से सामान्य तरह से भी अपना टीकाकरण करा सकते हैं। लेकिन, फोकस वैक्सीनेशन के जरिए इन्हे विशेष रूप से मौका दिया जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper