लखनऊ समेत 6 बड़े एयरपोर्ट का प्रबंधन पीपीपी मॉडल पर होगा

दिल्ली ब्यूरो: केंद्र सरकार ने देश के छह बड़े एयरपोर्ट का प्रबंधन पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल के अंतर्गत करने के प्रस्ताव को मजूरी दे दी. केंद्र सरकार के मंत्रिमंडल ने अहमदाबाद, जयपुर, लखनऊ और तीन अन्य हवाई अड्डों के लिए ये अहम फैसला गुरुवार को सुनाया। इनमें गुवाहाटी, तिरुवनंतपुरम और मेंगलुरु के हवाई अड्डे भी शामिल हैं। एक आधिकारिक ट्वीट में कहा गया, ”भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के स्वामित्व वाले इन हवाई अड्डों का प्रबंधन पीपीपी के तहत किया जाएगा। ”

बवासीर का सिर्फ 1 अचूक इलाज, तुरंत जानिए

अब से इन एयरपोर्ट पर सार्वजनिक निजी भागीदारी मूल्यांकन समिति प्रबंधन का काम करेगी। ट्वीट में कहा गया है कि पीपीपीएसी के अधिकार क्षेत्र के बाहर किसी मुद्दे को निपटाने के लिए सचिवों के अधिकार प्राप्त समूह को जिम्मेदारी दी जाएगी। इस तरह के मुद्दों के लिए जो समूह होगा, नीति आयोग के सीईओ इस समूह की अगुवाई करेंगे। इसके अलावा नागर विमानन मंत्रालय, आर्थिक मामलों के विभाग, व्यय विभाग के सचिव इस समूह में शामिल होंगे।

इस फैसले के साथ ही मंत्रिमंडल ने आन्ध्र प्रदेश में एक केन्द्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय की स्थापना को मंजूरी दे दी। एक आधिकारिक बयान में बताया गया कि आन्ध्र प्रदेश केन्द्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय की स्थापना विजयनगरम जिले के रेल्ली गांव में की जाएगी। इसका उल्लेख आन्ध्र प्रदेश पुनर्गठन अधिनियम, 2014 की 13वीं अनुसूची में है। मंत्रिमंडल ने इस विश्वविद्यालय की स्थापना के पहले चरण के होने वाले खर्चे के लिए 420 करोड़ रुपये की धनराशि को भी मंजूरी दी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper