लखनऊ से उत्तराखंड के पांच शहरों के लिए नई एसी बसों के संचालन की तैयारी

लखनऊ ब्यूरो।  उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (रोडवेज) ने लखनऊ से उत्तराखंड के पांच शहरों के लिए नई एसी बसों के संचालन की तैयारी शुरू कर दी है। नई बसों के चलने से यात्रियों को आने-जाने में सहूलियत मिलेगी।

क्षेत्रीय प्रबंधक पल्लव बोस ने बुधवार को बताया कि लखनऊ से देहरादून के बीच इस समय स्कैनिया बस व जनता और दून एक्सप्रेस ट्रेन से यात्रियों का आवागमन हो रहा है। जबकि लखनऊ से आने एवं जाने वाले यात्रियों की तादाद बहुत है। अधिकतर लोगों को ट्रेन में सीट खाली नहीं मिलती है। नई एसी बसों का देहरादून एवं हरिद्वार के बीच संचालन होने लगेगा तो वह ट्रेन का विकल्प बनेंगी और यात्रियों को सहूलियत मिलेगी।

उन्होंने बताया कि परिवहन निगम प्रयागराज से हल्द्वानी जाने वाले यात्रियों की मांग को देखते हुए दो बसों का संचालन करेगा। यह बस एक ही समय पर प्रयागराज एवं हल्द्वानी से संचालित होगी। बस वाया लखनऊ होकर हल्द्वानी को जाएगी। क्षेत्रीय प्रबंधक ने बताया कि गर्मियों में देहरादून, हरिद्वार, टनकपुर, हल्द्वानी, नैनीताल के लिए नई एसी बसों का संचालन शुरू होने से रोडवेज की आय में इजाफा होगा और यात्रियों का सफर भी सुहाना हो जाएगा।

उन्होंने बताया कि यूपी एवं उत्तराखंड के बीच हुए समझौते के तहत पांच शहरों के लिए बसें चलनी है। इन बसों में 14 एसी बसें शामिल हैं। इसके अलावा एक एसी बस रुपईडिहा से हरिद्वार और प्रयागराज से हल्द्वानी के बीच चलेगी। परिवहन निगम इन बसों का संचालन करने के लिए राज्य परिवहन प्राधिकरण के समक्ष नये परमिट के लिए जल्द ही आवेदन करेगा। इसके बाद जब भी प्राधिकरण की बैठक होगी तब बसों के परमिट को मंजूरी मिल जाएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper