लद्दाख को श्रीनगर से और कश्मीर घाटी को देश के अन्य हिस्सों से जोड़ने वाला राजमार्ग बंद

श्रीनगर: केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख को श्रीनगर तथा कश्मीर घाटी को देश के अन्य हिस्सों से जोड़ने वाला राजमार्ग साप्ताहिक मरम्मत कार्यों के कारण बुधवार को बंद रहा। यातायात पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि 86 किलोमीटर लंबे ऐतिहासिक मुगल रोड व अनंतनाग-सिंथान-किश्तवाड़ रोड पर यातायात जारी है। उन्होंने बताया कि साप्ताहिक मरम्मत कार्य के चलते नाश्री और जवाहर सुरंग के बीच राजमार्ग पर श्रीनगर या जम्मू से किसी भी वाहन के परिचालन की अनुमति नहीं है। उल्लेखनीय है कि प्रशासन ने प्रत्येक बुधवार को राजमार्ग पर यातायात निलंबित रखने की घोषणा की है। इस दिन भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) को मरम्मत कार्य करने की अनुमति दी गई है, ताकि अन्य दिनों के दौरान वाहनों की निर्बाध आवाजाही हो सके।

इसी बीच सड़क परिवहन और राजमार्ग केंद्रीय सचिव गिरिधर अरमाने काजीगुंड और बनिहाल के बीच डबल-ट्यूब फोर-लेन सुरंग पर निर्माण कार्य का निरीक्षण करने के लिए बनिहाल पहुंचे। यह श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग चौड़ीकरण परियोजना का प्रमुख हिस्सा है। इस संबंध में केंद्रीय सचिव ने एक बैठक की अध्यक्षता की और निर्माण कार्य के सभी महत्वपूर्ण पहलुओं के विस्तृत मूल्यांकन के साथ ही प्रतिष्ठित परियोजना की प्रगति की समीक्षा की।

इस दौरान उन्होंने पाया कि अधिकांश सिविल, मैकेनिकल और इलेक्ट्रिकल कार्य पूरे हो चुके हैं। साथ ही दोनों सुरंगों पर टोल प्लाजा भी तैयार हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के मद्देनजर लागू पाबंदियों के कारण केवल सुरक्षा गैजेट लंबित हैं क्योंकि इन्हें सिंगापुर से खरीदा जा रहा है। उन्होंने आश्वासन दिया कि मेगा परियोजना को अगले कुछ दिनों में जनता के लिए खोल दिया जाएगा, जिससे राजमार्ग पर यात्रा की दूरी 16 किलोमीटर कम हो जाएगी। उन्होंने बताया कि श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग के विकल्प के रूप में इस्तेमाल होने वाले ऐतिहासिक मुगल रोड पर यातायात जारी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper