लद्दाख तनाव: भारत की अंडमान में समुद्री ड्रिल, चीन को इशारा

नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच लद्दाख में तनाव अभी पूरी तरह खत्म नहीं हुआ है। वहां चालाकियां कर रहे चीन की हमारे जवान एक नहीं चलने दे रहे। दूसरी तरफ अब समुद्री ड्रिल से चीन को संदेश देने का काम किया गया है। भारतीय नेवी ने अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में ड्रिल की है। चीन के लिए यह इशारा भर है कि भारत उससे कहीं दबनेवाला नहीं है।

अमेरिका ने भी उतारे हैं एयरक्राफ्ट कैरियर
अंडमान और निकेबार द्वीप समूह के पास भारत की ड्रिल इसलिए महत्वपूर्ण हो जाती है क्योंकि यहां से चीन के कुछ समुद्री रास्ते गुजरते हैं, जहां ये वह कई व्यापारिक गतिविधियों को अंजाम देता है। चीन के लिए यह ड्रिल किसी डबल अटैक जैसी है। दरअसल, इससे पहले साउथ चाइना सी में अमेरिका के दो एयरक्राफ्ट कैरियर लड़ाकू ड्रिल कर रहे हैं और चीन के पास उन्हें देखते रहने के अलावा कोई चारा नहीं है।

कश्मीर की तरह, जब चाइना बॉर्डर पर भी पत्थरबाजी हुई तो सरकार ने इससे निपटने का तरीका भी कश्मीर वाला ही निकाला है। जी हां, चीनी सेना की पत्थरबाजी से निपटने के लिए लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर तैनात जवानों को अब सुरक्षात्मक शरीर कवच यानी फुल बॉडी प्रोटेक्टर दिए जाएंगे। ये ठीक वैसे होंगे जैसे जवान कश्मीर घाटी में पत्थरबाजी से बचने के लिए पहनते हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक, सबमरीन ढूंढनेवाला एयरक्राफ्ट Poseidon-8I, जिसमें घातक हारपून ब्लॉक मिसाइल लगी हैं, MK-54 लाइटवेट टोरपीडोज आदि भी इस ड्रिल का हिस्सा हैं। इससे पहले मल्लका में ही भारत और जापान ने भी पिछले ही महीने ड्रिल की थी। लेकिन वह सीमित स्तर की थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper