लॉकडाउन के बीच लखनऊ वाले उड़ा रहे पतंग, रोजाना गुल हो रही बत्ती

लखनऊ : लॉकडाउन के चलते लखनऊ वालों ने भी खुद को घरों में कैद कर लिया है. ऐसे में घर पर अपना समय व्यतीत करने के लिए विभिन्न तरीके अपना रहे हैं. इसी के चलते नवाबों की नगरी में लॉकडाउन के दौरान पतंगबाजी का क्रेज है. इससे जहां एक तरफ लोगों में उत्साह को माहौल है, वहीं मेट्रो प्रशासन इस पतंगबाजी से परेशान है.

उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के अधिकारियों ने बताया कि पंतगबाजी में इस्तेमाल होने वाले मांजे के बिजली के तार से टकराने पर बिजली गुल हो जाती है. दिनभर यही बिजली के आने और जाने का खेल चलता रहता है. जिससे मेट्रो प्रशासन की नाक में दम हो चुका है. अधिकारियों के मुताबिक आम दिनों में भी पतंग उड़ाने के कारण कभी-कभार ऐसे एक-दो मामले सामने आते थे, लेकिन बंद की वजह से खाली लोग जमकर पतंगबाजी का लुत्फ ले रहे हैं और इस वजह से बिजली आपूर्ति बाधित होने के मामलों में भी काफी बढ़ोतरी हुई है.

अधिकारी ने बताया कि बंद के कारण अभी आम जनता के लिए तो मेट्रो ट्रेनें नहीं चल रही हैं, लेकिन मेट्रो स्टेशनों पर अन्य काम हो रहे हैं और प्रतिदिन सुबह शाम एक-एक ट्रेन चलाकर परीक्षण भी लगातार किया जा रहा है.उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि लखनऊ मेट्रो 25000 वोल्ट की धाराप्रवाह वाले ओवर हेड इक्विपमेंट की सहायता से चलती है. ऐसे में यदि किसी पतंगबाज की डोर इसके संपर्क में आती है तो ओएचई ट्रिप कर जाती है, जिसके परिणाम स्वरूप मेट्रो संचालन में तो बाधा उत्पन्न होती है इसके साथ ही झटका लगने के कारण वह व्यक्ति भी दुर्घटना का शिकार हो सकता है. दरअसल, मेट्रो कॉरिडोर के आसपास निशातगंज, बादशाह नगर और आलमबाग से सटे कई इलाकों में आजकल काफी लोग पतंग उड़ाते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper