लॉकडाउन में राज्य के बाहर फंसे श्रमिकों के बैंक खातों में पहुंच रही मदद

रायपुर: नोवल कोरोना वायरस कोविड.19 के वैश्विक संक्रमण के दौरान लागू लॉकडाउन के कारण कई राज्यों में काम के लिए गए श्रमिक वापस अपने घरों को नहीं लौट पाये हैं। छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य से बाहर गये इन श्रमिकों की मदद के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है। राज्य से बाहर गये श्रमिकों को सहायता पहुंचाने के उद्देश्य से सीधे मजदूरों के खातों में राशि स्थानांतरित की जा रही है।

बेमेतरा जिले के छः हजार से ज्यादा श्रमिकों को सीधे उनके खातें में अब तक 20 लाख 56 हजार छह सौ रूपए का स्थानांतरण किया जा चुका है। इस माह की 20 तारीख को जिले के 411 श्रमिकों के खाते में 2 लाख 35 हजार रूपए का अंतरण किया गया। जरूरतमंदों की मदद के लिए विधायकों, जनप्रतिनिधियों एवं जनता ने बढ़.चढ़ कर अपना सहयोग दिया है।

श्रमिकों के मदद करने के लिए राज्य हेल्पलाईन के अलावा कलेक्टर शिव अनंत तायल द्वारा जिला हेल्पलाइन स्थापित किया गया है। प्रशासन द्वारा की जा रही मदद से राज्य के बाहर फंसे श्रमिक लॉकडाउन में भी रोजमर्रा की अवश्यकता जैसे राशन, सब्जी, दवाईयों की की पूर्ति कर पा रहे हैं। यह मदद केवल मजदूरों के खातें में राशि अंतरण तक सीमित नही है बल्कि मजदूरों से प्रतिदिन आत्मीय बातचीत कर उनके सुख.दुख के साथ उनके भोजन, राशन, दवाई आदि की उपलब्धता के संबंध में जानकारी प्राप्त की जा रही है।

इसके साथ ही लॉकडाउन की परिस्थिति में जो जहां हैं वहीं रहने की समझाईश भी दे रहे है। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ में अन्य जिले एवं अन्य राज्यों के श्रमिकों को भी सहायता पहुंचाई जा रही है। बेमेतरा जिले में श्रमिकों को शासकीय अमलों और स्व.सहायता समूहों के संयोजन से दैनिक उपभोग की समाग्री का वितरण भी किया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper