लॉकडाउन में है मौक़ा, नशे की लत को करें बाय-बाय

लखनऊ : कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन के दौरान उन लोगों को अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है जो सिगरेट, पान-मसाला या शराब का सेवन करते हैं। ऐसे लोगों के फोन रोजाना राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य अधिकारियों के पास आ रहे हैं। जबकि इन आदतों के शिकार लोग घर पर ही कुछ आसान तरीकों से अपनी इन आदतों से छुटकारा पा सकते हैं।

विशेषज्ञ कहते हैं कि अगर किसी को तंबाकू खाने की आदत है, तो वह इसके लिए घर पर अदरक को छीलकर कद्दूकस में कस कर फ्रिज में रख दें। जब मसाला या तंबाकू खाने की तलब लगे तो इस अदरक में कुछ नींबू और काला नमक मिलाकर गाल में दबा लें। इससे आपको मसाले या तंबाकू जैसा ही स्वाद मिलेगा। वहीं आप सौंफ, मिश्री, लौंग का मिश्रण बनाकर उसे भी खा सकते हैं। इससे आपके गले को भी फायदा मिलेगा। इस तहर आप इस गंदी आदत को छोड़ भी सकते हैं।

उनका कहना है कि बिना सिगरेट पिए सुबह प्रेशर नहीं बनने की बात कहने वाले लोगों को फलों के सेवन के साथ इसबगोल, उबली सब्जी, आंटे में चोकर मिलाकर खाना चाहिए। डायबिटीज के मरीजों को कोई नशा नहीं करना चाहिए। वे नशे की आदत से बचने के लिए साबुत अनाज, फल और गोभी, शिमला मिर्च जैसी सब्जियां खाएं।

हालांकि सर्वाधिक प्रॉब्लम शराब पीने वालों को होती है। अचानक अल्कोहल छोड़ने से चक्कर आ सकते हैं और कई बार यह जानलेवा हो सकता है। अगर आप शराब छोड़ना चाहते हैं तो डेली इसकी डोज 50-50 एमएल कम करें इससे 10 से 12 दिन में शराब की लत छूट जाएगी। ऐसा करने से नींद न आना, उलझन आदि की समस्या भी नहीं होगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper