लॉकडाउन: 50 हजार लोगों को अस्थायी नौकरी देगा Amazon, जॉब के लिए इस नंबर पर कर सकते कॉल

नई दिल्ली: पूरी दुनिया लॉकडाउन ( corona lockdown ) की वजह से परेशान है सभी को सैलेरी कटने और नौकरी जाने का जडर है और ऐसे माहौल में अमेजन ( Amazon india ) 50 हजार लोगों को भर्ती करने जा रहा है। दरअसल लॉकडाउन की वजह से ऑनलाइन चीजों की मांग में दबरदस्त इजाफा हुआ है जिसकी वजह से कंपनी को सप्लाई करने के लिए ज्यादा डिलीवरी ब्वॉय चाहिए। इसीलिए कंपनी ने 50 हजार भर्तियां करने का ऐलान किया है। अमेजॉन के कस्टमर फुलफिलमेंट ऑपरेशंस के वाइस प्रेजिडेंट अखिल सक्सेना ने कहा, ‘अपने डिलिवरी नेटवर्क और फुलफिलमेंट सेंटर्स के लिए हमने 50,000 अस्थायी नौकरियां निकाली हैं। इससे लोगों को नौकरी का अवसर मिल सकेगा और हमारी ओर से सुरक्षित वर्किंग एन्वायरनमेंट मिलेगा।’

हाल ही में सरकार ने दी है डिलिवरी की इजाजत-

अमेजन ने यह घोषणा ऐसे समय में की है, जब कुछ ही दिन पहले भारत सरकार ने कंटेनमेंट जोन को छोड़कर बाकी जगहों पर सभी सामानों की ऑनलाइन डिलीवरी की इजाजत दे दी है।लॉकडाउन 4 में सरकार ने कैंटोनमेंट एरिया को छोड़कर रेड ( red zone ) ऑरेंज और ग्रीन ( green zones in india ) तीनों जोन्स में नॉन एसेंशियल सामानों को पहुंचाने की इजाजत दे दी है। इसी के बाद अचानक से डिमांड बढ़ गई है । जिसकी वजह से Amazon ने ये फैसला लिया है।

कर्मचारियों के बीच कोरोना संक्रमण को लेकर अमेजॉन ने कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए सभी जरूरी उपाय किए जाने की बात कही है। ग्राउंड पर काम कर रहे लोगों को किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े। इसके अलावा सिक लीव और पूरी सैलेरी देने की भी बात कही जा रही है।

कंपनी ने बयान में कहा कि इन अस्थायी नौकरियों में दिलचस्पी रखने वाले लोग 1800-208-9900 पर कॉल कर सकते हैं या Seasonhairingindia@amazon डॉट कॉम पर ईमेल भेज सकते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper