लॉकर से मिला करोड़ों का खजाना, अब हो सकते हैं राजनीति से बेदखल

अखिलेश अखिल

लखनऊ ट्रिब्यून दिल्ली ब्यूरो: काजल का दाग तो लगना ही है।काजल की कोठरी में रहकर काजल के दाग से भला कौन बचा है ?जिस तरह से केजरीवाल सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन की छुपाई गयी संपत्ति का सीबीआई को पता चला है उससे साफ़ लग रहा है कि आप सरकार की मुश्किलें और बढ़ जायेगी।

पार्टी पहले से ही कई मामलों में घिरी हुयी है और अब सत्येंद्र जैन की लॉकर में छुपाई गयी संपत्ति पार्टी और आप सरकार की परेशानी बढ़ा देगी। माना जा रहा है कि कांग्रेस और बीजेपी मिलकर अब केजरीवाल सरकार पर तो हमला करेगी ही ,सत्येंद्र जैन को मंत्री पद से बेदखल कराने की कोशिश करेगी।

जो जानकारी मिल रही है उसके मुताविक एक लॉकर में सत्येंद्र जैन की प्रॉपर्टी से जुड़े तीन दस्तावेज थे। इनमें दिल्ली के कराला गांव में 12 बीघा, 2 बिस्वा जमीन, एक दूसरी प्लॉट जहां 8 बीघा 17 बिस्वा जमीन है और तीसरे प्लॉट में 14 बीघा जमीन है। इसके अलावा 41 चेक बुक हैं। इनमें करोडों के लेन-देन के बारे में जानकारी है। ये लेन-देन सत्येंद्र जैन, उनकी पत्नी और उनसे जुड़ी एक कंपनी जेजे आईडियल स्टेल प्राइवेट कंपनी द्वारा किये गये हैं।

लॉकर से आधा किलो सोना, 24 लाख नगद और 2011 में जमा किये गये 2 करोड़ रुपये भी शामिल हैं। सीबीआई के प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने कहा कि अबतक ये पता नहीं चल पाया है कि क्या नगदी और सोना भी जैन और उसके परिवार से जुड़ा है। हालांकि ये तय है कि जमीन के कागजात, निवेश और चेकबुक निश्चित रूप से सत्येंद्र जैन का है। सूत्रों के मुताबिक सीबीआई जल्द ही इस मामले में सत्येंद्र जैन से पूछताछ कर सकती है।

इस बरामदगी के सामने आने के बाद अरविंद केजरीवाल और सत्येंद्र जैन पर बीजेपी और कांग्रेस के तेवर और भी कड़े होने के आसार हैं। आपको बता दें कि सीबीआई एक केस के मामले में एक लॉकर की तलाशी ले रही थी इस दौरान प्रॉपर्टी और निवेश के करोड़ों के कागजत और चेकबुक मिले हैं। ये दस्तावेज कथित रूप से सत्येंद्र जैन के हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper