वायरस के डर से टला 1000 जोड़ों का हनीमून टूर, ट्रैवल एजेंटों का बुरा हाल

गोरखपुर: कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने नव विवाहित जोड़ों के हनीमून टूर पर भी ग्रहण लगा दिया है। हर साल 1000 से अधिक नव विवाहित जोड़े देश-दुनिया के रमणीय स्थलों पर हनीमून के लिए जाते थे, लेकिन इस बार यह संख्या 20 तक भी नहीं पहुंच रही है। कुछ साहसी जोड़ों ने शिमला और गोवा का पैकेज लिया है। हनीमून और न्यू ईयर सेलिब्रेशन पैकेज के भरोसे रहने वाले ट्रैवल एजेंटों का बुरा हाल है।

इस बार 25 नवंबर से 15 दिसम्बर तक के शुभ मुहूर्त में 7 हजार से अधिक जोड़े सात फेरे लेंगे। कोरोना के खौफ के चलते इनमें से 20 जोड़े भी हनीमून टूर प्लान करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। ट्रैवल एजेंट बताते हैं कि बीते वर्षों में ठंड के सीजन में हजार से अधिक जोड़े हनीमून टूर प्लान करते थे। इनमें से करीब 400 ट्रैवल एजेंटों के जरिये जबकि शेष खुद ही टूर प्लान करते थे। इस बार शहर के छोटे-बड़े करीब 50 ट्रैवल एजेंटों का बुरा हाल है।

प्रमुख ट्रैवल एजेंट बासुकी नाथ बताते हैं कि ‘पिछले साल ठंड के सीजन में 90 जोड़ों ने हनीमून टूर का पैकेज लिया था। इनमें यूरोप टूर के साथ नेपाल और केरल की बुकिंग थी। इस बार सिर्फ 8 जोड़ों ने हनीमून पैकेज लिया है। ये जोड़े शिमला, गोवा या जम्मू-कश्मीर जा रहे हैं।’ रेलवे स्टेशन पर ट्रैवल एजेंसी चलाने वाले अरविन्द त्रिपाठी का कहना है कि ‘नवविवाहित जोड़ों की पहली पसंद नेपाल टूर रहता है। कोरोना के चलते नेपाल सीमा बंद होने से पूरा कारोबार चौपट हो गया है। ठंड के सीजन में 200 से अधिक जोड़े नेपाल हनीमून मनाने जाते थे। हनीमून पैकेज 25 से 35 हजार रुपये में होता है। इस बार बंदी के चलते एक भी बुकिंग नहीं हुई है।’

हनीमून टूर के लिए वैक्सीन का इंतजार
राप्तीनगर निवासी सॉफ्टवेयर इंजीनियर निशांत श्रीवास्तव शनिवार को वैवाहिक बंधन में बंधे हैं। उनका कहना है कि ‘अब कोरोना का वैक्सीन लगवाने के बाद ही हनीमून टूर पर जाएंगे। जान है तो जहान है।’ गिरधरगंज बाजार निवासी शुभ की शादी 6 दिसम्बर को है। उन्होंने केरल के लिए हनीमून टूर के पैकेज को रद्द करा दिया है। वे कहते हैं कि ‘हम दोनों ने तय किया है, स्थिति काबू में होने के बाद ही टूर पर निकलेंगे। तब तक वैक्सीन भी आ जाएगी।’

3 करोड़ से अधिक का कारोबार प्रभावित
हनीमून टूर पैकेज की बुकिंग पर जिले के जोड़े सिर्फ ठंड के सीजन में 3 करोड़ रुपये से अधिक खर्च करते हैं। 1000 से अधिक जोड़े प्रति हनीमून 20 हजार से लेकर 3 लाख रुपये तक खर्च करते हैं। ट्रैवल एजेंटों के मुताबिक, करीब 400 जोड़े ट्रैवल एजेंसियों के जरिये बुकिंग कराते हैं। वहीं शेष जोड़े ऑनलाइन वेब साइट पर या खुद ही टूर प्लान करते हैं। ट्रैवल एजेंट बासुकी नाथ बताते हैं कि ‘यूरोप का टूर पिछले कुछ वर्षों में पापुलर हुआ था। यूरोप पैकेज का खर्च 3 से 6 लाख रुपये तक जबकि केरल, गोवा या फिर शिमला आदि का पैकेज 40 हजार से एक लाख रुपये तक का होता है। इस बार आठ जोड़ों ने हनीमून पैकेज लिया है। तीन रात, चार दिन के पैकेज का 50 से 60 हजार रुपये लगा है।’ ट्रैवल एजेंट अजय मिश्रा कहते हैं कि ‘नेपाल टूर पर आधे से अधिक ट्रैवल एजेंसियां निर्भर हैं। कोरोना के चलते नेपाल सीमा बंद होने से हजारों लोगों के रोजगार पर संकट है

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper