वास्तु की इन बातों को भूलकर भी न करें इग्नोर, भुगतना पड़ सकता है वास्तु दोष

नई दिल्ली। ज़माना चाहे कितना भी मॉडर्न और फैशलेबल क्यों न हो जाए, लेकिन आज भी लोग वास्तु का खास ख्याल रखते हैं। हर कोई सोचता है कि उसके घर में सुख-शांति का वास हो, लेकिन कई बार घरों में बिना बात झगड़े और कलेश होने लगते हैं, घर के लोगों की आपस में तनातनी हो जाती है, घर का माहौल गंदा हो जाता है।

कभी-कभी वास्तु पर ध्यान न देने क कारण घर में कई तरह की नकारात्मक शक्तियां वास करने लगती हैं जिनकी वजह से ये सारी नकारात्मक चीज़ें होने लगती हैं। और घर से सुख-शांति गुम हो जाती है।

ये भी पढ़ें: अब प्याज काटते समय नहीं पड़ेगा रोना, सिर्फ़ ये 2 टिप्स करें ट्राई

  • घर के मेन गेट के बाहर एक बल्ब या लाइट जरूर लगी होनी चाहिए, शाम होते ही उसे ऑन कर देना चाहिए। ऐसा करने से रात के वक्त नकारातमक ऊर्जा घर में नहीं आ पाती है।
  • तस्वीरें घर में चील, उल्लू, जंगली मांसाहारी जानवर, जंग, दुर्घटना, आदि की तस्वीरें फ्रेम करवाकर न लगवाएं। इससे घर में परेशानियां आती हैं। अगर घर में ऐसी तस्वीरें हैं, तो उन्हें तुरंत उतार कर घर से निकाल दें।
  • घर में कम से कम दो या तीन बार नवग्रह पूजन के साथ मनचाहा पूजन करवाना चाहिए और साथ हवन जरूर करवाना चाहिए। इससे घर का वास्तु दोष दूर होता है।
  • यदि घर के कोनों में चार कटोरियों में नमक भर कर रख देते हैं, तो नमक सभी नकारात्मक ऊर्जा को अवशोष‍त कर लेगा। और घर में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा का वास रहेगा।
  • घर में विंग चाइंम्स लगायें घर में विंड चाइम जरूर लगानी चाहिए।
  • घर के मुख्य द्वार पर धार्मक प्रतीक व चिन्ह लगायें, जैसे कि स्वास्त‍िक, ऊँ, आदि।
  • तमाम लोग रसोईघर में रखे फ्रिज में दवाएं रख देते हैं। ऐसा नहीं करना चाहिए। इससे बीमारियां घर में आती हैं। रसोई स्वास्थ्य और खुशी का प्रतीक है, जबकि दवाएं बीमारी और गम का प्रतीक हैं।
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper