विकास दुबे के एनकाउंटर की खबर जैसे ही रिचा दुबे हुई, तो वह फूट-फूट कर रोने लगी

लखनऊ: हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के एनकाउंटर की खबर जैसे ही रिचा दुबे हुई, तो वह फूट-फूट कर रोने लगी। जानकारी के मुताबिक रिचा को पुलिसकर्मियों ने नहीं बताया कि विकास एनकांउटर में मारा गया है। लेकिन रिचा को पुलिसकर्मियों के बर्ताव से अहसास हो गया कि विकास का एनकांउटर हो गया है। इसके बाद रिचा फूटकर रोई। सूत्रों के हवाले से वह पुलिसकर्मियों से कहती रही कि बस एक बार विकास का चेहरा दिखा दो।

गुरुवार शाम एसटीएफ ने लखनऊ के कृष्णानगर से रिचा और और उसके बेटे को पकड़ा था। एसटीएफ कानपुर में किसी अज्ञात स्थान पर रिचा से पूछताछ कर रही थी। वहीं विकास दुबे गुरुवार सुबह मध्य प्रदेश के महाकालेश्वर मंदिर से पकड़ा गया था। मध्य प्रदेश पुलिस ने विकास को यूपी एसटीएफ के हवाले किया था। एसटीएफ का काफिला विकास को लेकर कानपुर आ रहा था। इसी दौरान एक एसटीएफ की गाड़ी पलट गई। मौके का फायदा उठाकर विकास ने पुलिसकर्मी की पिस्टल छीनकर भागने का प्रयास किया। पुलिस ने जब उससे रूकने को कहा तो उसने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। पुलिस की जवाबी फायरिंग में विकास मारा गया।

कानपुर शूटआउट के बाद से फरार चल रहा कुख्यात विकास दुबे गुरुवार को उज्जैन के महाकाल मंदिर से पकड़ा गया था। यूपी एसटीएफ और पुलिस की टीम उसे लेकर लौट रही थी, जब उसने शुक्रवार की सुबह भागने की कोशिश की। जवाबी फायरिंग में गोली लगी औप उसने दम तोड़ दिया। विकास दुबे के एक अन्य साथी प्रभात मिश्रा को पुलिस ने कानपुर हाइवे पर मुठभेड़ में मार गिराया है। प्रभात मिश्रा को फरीदाबाद से गिरफ्तार करने के बाद पुलिस टीम कानपुर लेकर आ रही थी। इसी दौरान पुलिस की गाड़ी खराब हो गई और सड़क पर वाहन रुकते ही प्रभात ने पिस्टल छीनकर भागने का प्रयास किया। इसके बाद जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने उसे मार गिराया।

विकास दुबे के शार्प शूटर अमर दुबे को पुलिस ने हमीरपुर के मौदहा कोतवाली इलाके में मार गिराया है। ये मुठभेड़ बुधवार को हुई थी। अमर दुबे हमीरपुर में अपने रिश्तेदार के घर पर छिपने आया था, इसी दौरान पुलिस ने उसे घेरकर सरेंडर करने के लिए कहा। हालांकि अमर ने इस दौरान पुलिस पर फायरिंग की जिसके बाद उसे मार गिराया गया।

गैंगस्टर विकास दुबे गैंग का एक और बदमाश रणवीर उर्फ बउअन दुबे पुलिस से मुठभेड़ के दौरान मारा गया। थाना सिविल लाइन क्षेत्र से स्विफ्ट डिजायर गाड़ी लूटकर भाग रहे बदमाश को पुलिस और स्वाट टीम ने घेराबंदी कर मार गिराया। विकास दुबे के एक खास आदमी अतुल दुबे को भी मुठभेड़ में मार गिराया गया था। अतुल रिश्ते में विकास का चचेरा भाई था और बिकरू गांव में ही रहता था। अतुल दुबे के बेटे के भी पुलिसकर्मियों पर हुए हमले में शामिल होने की बात कही जा रही है।

तीन जुलाई की सुबह विकास दुबे के मामा प्रेम प्रकाश को पुलिस ने कानपुर में हुई एक मुठभेड़ में मार गिराया था। प्रेम प्रकाश के एनकाउंटर के बाद पुलिस ने उनका अंतिम संस्कार कराया था। पुलिस का कहना है कि प्रेम प्रकाश विकास के साथ वारदात में शामिल थे। हालांकि प्रेम प्रकाश के परिवार ने उन्हें बेकसूर बताया है। इस एनकाउंटर में नवाबगंज इंस्पेक्टर रमाकांत पचौरी समेत तीन लोग घायल हो गए। घायलों को पहले कल्यानपुर सीएचसी भेजा गया। प्राथमिक उपचार के बाद पुलिसकर्मियों को हैलट अस्पताल के रेफर कर दिया गया। वहीं विकास को हैलट अस्पताल भेजा गया, जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

जानकारी के मुताबिक एसटीएफ को रिचा से पूछताछ में कई अहम सुराग लगे। विकास का बैंक अकाउंट और प्रॉपर्टी संबंधी जानकारी इकट्ठा की गई। अब देखने वाली बात यह होगी कि पुलिस रिचा को विकास दुबे का शव देखने को देखने की अनुमति देती है या नहीं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper