विधानसभा चुनाव को टालने के लिए चुनाव आयोग ओर पीएम से की अपील

प्रयागराज: देश में जिस तरह से एक बार फिर से कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है उसको लकर इलाहाबाद हाई कोर्ट न चिंता जाहिर की है। हाई कोर्ट ने आगामी विधानसभा चुनाव को कुछ महीने टालने के लिए भी चुनाव आयोग से अपील की है। साथ ही हाई कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस बात पर विचार करन को कहा है। इलाहाबाद हाई कोर्ट ने राजनीतिक दलों से भी अपील की है कि वह चुनाव प्रचार के लिए रैलियां ना करें और टीवी व समाचार पत्रों के माध्यम से ही प्रचार करें।

इलाहाबाद हाई कोर्ट के जस्टिस शेखर कुमार यादव ने यह बात आरोपी संजय यादव की जमानत को स्वीकार करने के दौरान कही। उन्होंने कहा कि आज कोर्ट में चार सौ मुकदमे सुचिबद्ध है इसी तरह से केस की संख्या हर रोज होती है। सुनवाई के दौरान वकील सटकर खड़े होते हैं कोरोना प्रोटोकाल का पालन नहीं होता है। ओमिक्रॉन का खतरा बढ़ता ही जा रहा है और तीसरी लहर आने की संभावना है। यही नहीं हर रोज तकरीबन छह हजार नए मामले आ रहे हैं, लगातार संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं।कई देशों चीन, नीदरलैंड, आयरलैंड, जर्मनी, स्कॉटलैंड ने आंशिक लॉकडाउन भी लगा दिया है। पिछले लहर में देश में लाखों लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। ग्राम पंचायत चुनाव, पश्चिम बंगाल चुनव में बड़ी संख्या में लोग संक्रमित हुए।

गौर करने वाली बात है कि यूपी में आगले महीने चुनाव की तारीखों का ऐलान हो सकता है। राजनीतिक दल लाखों की भीड़ जुटा रहे हैं, रैलियां कर रहे हैं। ऐसे में तीसरी लहर का खतरा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। जिसे देखते हुए हाईकोर्ट ने चुनाव आयुक्त से अनुरोध किया है कि वह इस तरह की रैलियां और भीड़ एकत्र होने पर रोक लगाएं। यही नहीं सभव हो तो चुनैाव को एक दो महीन के लिए टाल दें, जीवन रहेगा तो चुनाव रैलियां, सभाएं होती रहेंगी। जीवन का अधिकार देश के संविधान में आर्टिकल 21 में भी दिया गया है। पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कोर्ट ने कहा कि उन्होंने देश में इतना बड़ा मुफ्त टीकाकरण अभियान चलाया, हमारी उनसे अपील है कि कड़े कदम उठाएं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper