विमान में यात्रियों के बीच ओमिक्रॉन वेरिएंट के फैलने का खतरा तीन गुना अधिक

नई दिल्ली: विश्व के लोग सर्दियों में छुट्टियों और क्रिसमस पर घूमने फिरने के मुड में हैं,तब अचानक कोरोना के नया वेरिएंट ओमीक्रॉन कहर बरपाने लगा है। इसी बीच दुनिया की एयरलाइंस के शीर्ष चिकित्सा सलाहकार डेविड पॉवेल का बयान सामने आया है कि कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट की विमान में यात्रियों फैलने की संभावना दोगुनी या तीन गुना अधिक होती है। अमेरिका में वेरिएंट के 70 फीसदी से अधिक नए मामले सामने आए हैं। इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के चिकित्सा सलाहकार डेविड पॉवेल ने कहा है कि डैल्टा के मुकाबले हमें यह मानना होगा कि जोखिम ओमाक्रोन के साथ दो से तीन गुना अधिक होगा, जैसा कि हमने अन्य वातावरणों में देखा है।

उन्होंने कहा कि हवाई यात्रा के दौरान सामान्य स्पर्श वाली सतहों से बचना चाहिए। जहां भी संभव हो हाथ की स्वच्छता, मास्क, दूरी, नियंत्रित-बोर्डिंग प्रक्रियाएं,अन्य यात्रियों के साथ आमने-सामने संपर्क से बचने की कोशिश करें। उड़ान में बिना मास्क के रहने से बचने की कोशिश करें। पॉवेल कहते हैं कि सलाह वही है, यह सिर्फ इतना है कि जोखिम शायद बढ़ गया है, जैसे सुपरमार्केट जाने या बस पकड़ने का सापेक्ष जोखिम ओमाक्रोन के साथ बढ़ गया है।

पॉवेल ने कहा कि दो घंटे की उड़ान के लिए पूरे समय मास्क लगाना आसान है, लेकिन अगर यह 10 घंटे की उड़ान है,तब लोगों से खाने-पीने के लिए नहीं कहना बहुत अनुचित हो जाता है। एक-दूसरे के पास बैठे लोगों को कोशिश करनी चाहिए कि वे भोजन के दौरान एक ही समय में बिना मास्क के न रहें। सरल शब्दों में नकाबपोश दो लोगों में एक से दूसरे में न्यूनतम संचरण होता है। यदि आप में से कोई अपना मुखौटा हटा देता है, तो उस व्यक्ति के संक्रमित होने का अधिक जोखिम होता है। लेकिन अगर दोनों मास्क हटा दें तो जाहिर है, वहां संक्रमण में कोई बाधा नहीं है। पंक्तियों की सीटों को खाली रखने को पॉवेल सुरक्षित बताते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper