विवाह के बाद महिलाओं को ध्यान रखनी चाहिए ये 7 बातें

लखनऊ: एक समझदार महिला वही होती है जो अपनी जिम्मेदारीयों को पूरी तरह से निभाती है. परिवार में हमेशा सुख और शांति बनी रहे, इसके लिए महाभारत में द्रौपदी ने भगवान श्रीकृष्ण की पत्नी सत्यभामा को खास 7 तरीकों के बारें में बताया था.

द्रौपदी ने सत्यभामा को बताया था कि इन 7 तरीकों को अपनाकर कोई भी महिला अपने पति को हमेशा प्रसन्न रख सकती है. तो आइये जानें द्रौपदी के बताएं गए उन 7 तरीकों के बारें में.

1.जो समझदार महिला होती है, वह अपने परिवार के सभी रिश्तों के बारे में पूरी जानकारी रखती है, क्योंकि एक भी रिश्ता भूल गए तो वह रिश्ता पारिवारिक सम्बन्ध बिगाड़ सकता है.

2.सुखी वैवाहिक जीवन के लिए महिला को बुरे चरित्र वाली स्त्रियों से दूर ही रहना चाहिए. गलत आचरण वाली स्त्रियों से मित्रता या मेल-जोल रखने पर जीवन में परेशानीयां बढ़ जाती हैं.

3.महिला को कभी भी ऐसी कोई बात नहीं कहनी चाहिए, जिससे किसी का अपमान हो. परिवार के सभी सदस्यों का पूरा सम्मान करना चाहियें.

4.किसी भी काम के लिए आलस नहीं करना चाहिए. जो भी काम हो उसे बिना समय गवाए पूरा कर लेना चाहिए. ऐसा करने पर पति और पत्नी के बीच प्रेम बना रहता है.

5.पति बूढा या रोगी हो गया हो तो भी पत्नी को उसका साथ नहीं छोड़ना चाहिए. जीवन के हर सुख-दुःख में उसका साथ निभाना चाहियें.

6.पतिव्रता स्त्री को कभी ऐसा काम करना चाहिए, जिससे पति का मन प्रसन्न रहे. ऐसा कोई काम नहीं करना चाहिए, जिससे पति को अच्छा ना लगता हो.

7.क्रोध पर नियन्त्रण रखना चाहिय. क्रोध के कारण बड़ी-बड़ी परेशानियां खड़ी हो जाती है. इसलिए क्रोध पर काबू रखें. साथ ही, पराये लोगों से व्यर्थ की बात नहीं करनी चाहिए.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper