विश्व रेबीज दिवस के अवसर पर आई वी आर आई में निशुल्क रेबीज टीकाकरण कार्यक्रम सम्पन्न

बरेली: विश्व रेबीज दिवस के अवसर पर कल आईवीआरआई के रेफरल पॉली क्लीनिक में रोटरी क्लब, इज़्ज़तनगर के सहयोग से कुत्तों के लिए निशुल्क रेबीज टीकाकरण कार्यक्रम किया गया इस अवसर पर 52 कुत्तों को रेबीज के निशुल्क टीके लगाए गए । कार्यक्रम का उद्घाटन संस्थान के संयुक्त निदेशक शोध डॉ. जी. साई कुमार ने किया उन्होंने अपने उदबोधन कहा कि रेबीज के बारे में लोगों को जागरूक करने और इस जानलेवा बीमारी से लोगों को बचाने के उद्देश्‍य से हर साल विश्‍वभर में 28 सितंबर को रेबीज डे मनाया जाता है। रेबीज विषाणु जनित लाइलाज जानलेवा बीमारी है यह स्तनधारी प्राणियों के काटने से होती है अत: यह आवश्यक है की हम अपने पालतू पशुओं का प्रतिवर्ष टीकाकरण अवश्य कराएं । उन्होने कहा कि समाज मे रेबीज को लेकर कुछ भ्रांतियाँ भी हैं जिनमें 1 वर्ष से कम आयु के पशुओं में रेबीज बीमारी न होना तथा तेल, नमक, मिर्च आदि से इस बीमारी के इलाज एवं झाड़ फूक आदि शामिल हैं हमें इनके चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए। उन्होंने रोटरी क्लब इज्जतनगर की सराहना करते हुए कहा कि यह सन 2013 से लगातार पशुओं के लिए टीकाकरण एवं अन्य कार्यक्रम करता आया है।

संस्थान के निदेशक डॉ त्रिवेणी दत्त ने विश्व रेबीज दिवस के अवसर पर आयोजित टीकाकरण कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए आयोजकों को बधाई दी एवं रेबीज के बारे में लोगों को जागरूक करने तथा और अधिक टीकाकरण करने पर बल दिया। रेफरल पॉली क्लीनिक के प्रभारी डॉ अमर पाल ने इस साल की थीम ‘रेबीज: वन हेल्‍थ, जीरो डेथ्‍स’के बारे में बताते हुए कहा कि यह थीम मनुष्‍यों और जानवरों के बीच के संबंध को हाइलाइट करेगी। उन्होंने रेबीज दिवस का जिक्र करते हुए कहा कि इस दिन फ्रेंच केमिस्‍ट और माइक्रोबायोलॉजिस्‍ट लुई पाश्‍चर की डेथ एनिवर्सरी होती है, जिन्होंने सन 1885 में पहली बार रेबीज की वैक्‍सीन को विकसित किया था। आज ये वैक्‍सीन जानवरों और मनुष्‍यों के बीच महत्‍वपूर्ण रोल अदा कर रही है। इसके इस्तेमाल से मनुष्यों में रेबीज से होने वाले खतरे को कम किया जा सकता है।

इस अवसर पर रोटरी क्लब के कार्यक्रम समन्वयक डॉ. डी. सी. शुक्ला, डॉ शशि दुग्गल, रोटेरियन राजीव श्रीवास्तव, रोटेरियन अशोक बत्रा, रोटेरियन संदीप गुप्ता, रोटेरियन संजीव सूरी सहित संस्थान के डॉ अभिजीत पावड़े, डॉ. उमेश डिमरी, डॉ संजीव महरोत्रा, डॉ एस के घोष, डॉ. नीरज श्रीवास्तव, डॉ. एस. के. दीक्षित, डॉ. ए. सी. सक्सेना, डॉ अखिलेश, डॉ. उज्ज्वल कुमार डे, डॉ. किरनजीत सहित अनेक विभागों के विभागाध्यक्ष, वैज्ञानिक, छात्र अधिकारी उपस्थित रहे।
बरेली से ए सी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper