वुहान में लॉकडाउन खत्म, इस तरह मनाया जीत का जश्न

नई दिल्ली: चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोनावायरस का कहर पूरी दुनिया को अपनी आगोश में ले चुका है लेकिन चीन ने अब इस पर विजय हासिल कर ली है। इस जीत पर चीन में इन दिनों जश्न मनाया जा रहा है जिसमें उन बेजुबान जानवरों के मांस का दोबारा सेवन शुरू कर दिया गया है जिनके चलते उस पर वायरस के प्रसार के आरोप लगे हैं। यहां फिर से चमगादड़ों, बतखों और सांपों की मंडियां सजने लगी हैं। डेली मेल के मुताबिक कोरोनावायरस महामारी पर विजय का जश्न चीन में खरगोश और बतखों का मांस खाकर मनाया गया। हालांकि माना जा रहा है कि चमगादड़ और पैंगोलिन के जरिए कोरोनावायरस इंसान के शरीर में प्रवेश कर गया है।

लेकिन इसके बावजूद वुहान में तीन माह बाद बेहद ही गंदे मीट बाजार को दोबारा खोल दिया गया है। जश्न के दौरान कुत्ते, बिल्ली, बतखों और खरगोशों का इतनी बड़ी तादाद में कत्ल किया गया कि शहर के कई घरों की छतें खून से लाल हो गईं। डेली मेल के मुताबिक, जश्न के दौरान कई जगह मृत जानवरों के अवशेष दिखाई दिए। तस्वीर लेने से रोकने को सुरक्षाकर्मी तैनात चीन में वुहान के गुइलिन क्षेत्र के भीतर पहले सुरक्षा गार्ड तैनात नहीं रहते थे। लेकिन अब यहां की तस्वीरें लेने से रोकने के लिए सुरक्षाकर्मी चौबीसों घंटे तैनात रहने लगे हैं। यहां इस बात का प्रचार किया जा रहा है कि कोरोनावायरस अब दूसरे देशों की समस्या है। चीनियों को इससे चिंतित होने की जरूरत नहीं।

सरकार का प्रोत्साहन डेली मेल की खबर के मुताबिक, दक्षिण-पश्चिम चीन में गुइलिन इलाके के भीतर हजारों लोग दोबारा मीट मार्केट में पहुंचे और वहां खुले में बिक रहे मांस और जिंदा जानवरों को खरीदा। चीन में लॉकडाउन हटने के बाद यहां की मंडी में कई प्रजातियों के पशु-पक्षी रखे देखे गए। सरकार भी लोगों को रोजमर्रा की तरह बाजार जाकर सामान्य जीवन जीने को प्रोत्साहित कर रही है ताकि अर्थव्यवस्था रफ्तार पकड़ सके।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper