वेजिटेरियन भी जरा बच के…

अगर आप वेजिटेरियन हैं और सोचते हैं कि चाहे जो खा लो कोई नुकसान नहीं होगा, तो तुरंत सावधान हो जाइए। अगर आप अपने भोजन में हाई प्रोटीन युक्त आहार ले रहे हैं तो यह काफी नुकसानदायक है। 20 वर्षों तक शोधकर्ताओं की एक टीम ने 2,400 से अधिक लोगों पर अध्ययन करने के बाद यह निष्कर्ष निकाला है। फिनलैंड में हुए इस रिसर्च से आजकल के खाने के हिसाब से शरीर पर पडऩे वाले प्रभाव के बारे में पता चला। हालांकि हाई प्रोटीन आहार की ओर आकर्षण नया नहीं है। 1970 के दशक के अमेरिकी डॉक्टर रॉबर्ट एटकिंस ने हाई प्रोटीन लेने की वकालत की थी। आज भी इसका पालन किया जाता है। अप्रैल 2018 में फ्रांसीसी डॉक्टर पियरे डुकान ने ‘डुकान डाइट जारी की थी।

इसमें भी सीमित कार्बोहाइड्रेट और हाई प्रोटीन खाने को बढ़ावा दिया गया था। अब हुई नई शोध इस बात को गलत साबित करती है। एक नए अध्ययन से पता चलता है कि पौधों और जानवरों दोनों से प्राप्त प्रोटीन ज्यादा खाने से काॢडयोवैस्कुलर फेल होने का खतरा बढ़ जाता है। हालांकि अभी भी शोधकर्ताओं को उनके कई सवालों के जवाब पता नहीं चले हैं। उदाहरण के लिए यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि प्रोटीन स्रोतों में मौजूद विभिन्न एमिनो एसिड के ज्यादा सेवन से दिल पर गलत असर क्यों पड़ता है? इसके अलावा उन्हें इस बात का भी जवाब नहीं मिला है कि क्यों प्रोटीन के स्रोत फर्मेंटेड डेयरी पदार्थ जैसे कि पनीर दिल के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है? यह रिसर्च 1984 में शुरू हुआ था, जब वैज्ञानिकों ने कुओपियो इस्केमिक हार्ट डिसीज फैक्टर अध्ययन शुरू किया था।

इसके लिए वैज्ञानिकों ने 2,441 मध्यम आयु वर्ग के और बुजुर्ग पुरुषों की भर्ती की। इन सभी के खान-पान में मौजूद प्रोटीन की मात्रा पर ध्यान रखा गया। हर प्रतिभागी का मूल्यांकन किया गया था कि उन्होंने कितना डेयरी, पशु, पौधे से और कुल प्रोटीन खाया। शोधकर्ताओं ने पाया की कम डेयरी प्रोटीन खाने वालों की तुलना में ज्यादा खाने वालों में दिल की बीमारी का खतरा 25 प्रतिशत ज्यादा हो जाता है। आम तौर पर प्रोटीन का अधिक सेवन दिल की विफलता के जोखिम को बढ़ा देता है। तो आप भी सावधान हो जाइए और ज्यादा प्रोटीन लेने से बचिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper