‘वैक्सीन से जुड़ी अफवाहों पर ध्यान ना दें’: PM मोदी

 

नई दिल्ली: देश इस वक्त कोरोना वायरस से बुरी तरह से जूझ रहा है, बढ़ते मरीजों की संख्या ने प्रशासन को चिंता में डाल दिया है तो वहीं इस संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज एक बार फिर अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के जरिये देशवासियों को संबोधित किया। यह रेडियो कार्यक्रम सुबह 11 बजे प्रसारित हुआ। इस कार्यक्रम को टेलीविजन, फेसबुक, ट्विटर पेज और मोबाइल एप पर भी लाइव प्रसारित किया गया, बता दें कि आज ‘मन की बात’ का 76वां संस्करण था।

अगर मन में किसी भी तरह की शंका है तो आप अपने फैमिली डॉक्टर्स, आस-पास के डॉक्टर्स से बात करें लेकिन अफवाओं पर भरोसा ना करें

आग्रह है कि वैक्सीन को लेकर किसी भी अफवाह में न आएं
राज्यों से भी आग्रह है कि वो भारत सरकार के इस फ्री वैक्सीन अभियान का लाभ पहुंचाए
डॉक्टर, नर्स लैब टेक्नीशियन और एंबुलेंस ड्राइवर जैसे फ्रंटलाइन वर्कर इस वक्त भगवान स्वरूप हैं
जो लोग बाहर से आ रहे हैं उनके लिए सही व्यवस्थाएं भी बनाई जा रही हैं
ग्रामीण लोग भी कोरोना गाइडलाइन का पालन कर रहे हैं
गांव के लोग भी अब कोरोना के प्रति जागरूर हो रहे हैं
कोरोना से बहुत लोग संक्रमित हो रहे हैं लेकिन कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या भी उतनी ही ज्यादा है, ये हमें नहीं भूलना चाहिए

आपको बता दें कि 3 अक्टूबर 2014 को पीएम मोदी के ‘मन की बात’ प्रोग्राम की शुरूआत हुई थी। तब से लगातार इसके प्रसारण का सिलसिला जारी है। महीने के आखिरी रविवार को पीएम मोदी जनता से रेडियो के जरिए अपने ‘मन की बात’ करते हैं। ये विशेष कार्यक्रम 18 क्षेत्रीय भाषाओं और 33 बोलियों में भी प्रसारित किया जाता है। हाल ही में RTI में खुलासा हुआ था कि इस कार्यक्रम पर 7.29 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं, जबकि इससे ऑल इंडिया रेडियो को 30.28 करोड़ का राजस्व प्राप्त हुआ है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper