व्यापक पैमाने पर वृक्षारोपण करें व पृथ्वी को प्रदूषण मुक्त बनायें’: मनीष सिंह

लखनऊ: गुरु पूर्णिमा के पावन अवसर पर एसकेडी एकेडमी के संस्थापक मनीष सिंह ने जीवन के मैच में अर्धशतक लगाते हुए अपनी 50वी सालगिरह के मौके पर वृक्षारोपण को पर्यावरण बचाव की सबसे बड़ी जरुरत बताते हुए अपने सभी छात्रों, अध्यापकों,कर्मचारियों और अतिथिगणों के बीच हजारों की संख्या में पौधों का वितरण कर पर्यावरण के संरक्षण का संकल्प लिया। उन्होंने बताया कि उनके इस अभियान में सरोजनी नगर क्षेत्र के विधायक डॉ0 राजेश्वर सिंह जी ने भी पूर्ण रूप से सरोजनी नगर के पूरे क्षेत्र में वृक्षारोपण करवाकर उसको हरा भरा करने का संकल्प लिया है।

इस अवसर पर सिंह ने कहा कि – हमें व्यापक पैमाने पर वृक्षारोपण कर पृथ्वी को प्रदूषणमुक्त करने में अपना भरपूर योगदान देना अति आवश्यक है। इस अवसर पर अपने सारपूर्ण उद्बोधन में उन्होंने कहा कि हमें शिक्षा में नये आयाम प्राप्त करने हैं। उसके लिए हम निरन्तर प्रयत्न कर रहे हैं। आजकल देश में धार्मिक उन्माद बढ़ रहा है। ऐसी स्थिति में धार्मिक सौहार्द व सहिष्णुता की विशेष आवश्यकता है। समाज में सब ओर समरसता का वातावरण रहे, आपस में प्रेम बना रहे, इसका प्रयास हर व्यक्ति को करना जरूरी है । उन्होंने संतुलित पर्यावरण के लिए वृक्षारोपण को सबसे अहम बताया।

गौरतलब है कि मनीष सिंह अपने प्रत्येक जन्मदिन के अवसर पर प्राकृतिक संरक्षण से जुड़े कार्यक्रमों का आयोजन करते रहे हैं। इस वर्ष भी एस .के.डी. एकेडमी की वृन्दावन शाखा में एस.के.डी. ग्रुप के डायरेक्टर मनीष सिंह ने अपने स्वर्णिम 50वे जन्मदिवस के अवसर पर वृक्षारोपण को एक अभियान की तरह आगे बढ़ाने का संकल्प लिया और अतिथिगणों के मध्य जूट के बैग में रखकर बड़ी संख्या में पौधे वितरित किये। जन्मदिन के शुभ अवसर पर उन्होंने अपने शिक्षकों, कर्मचारियों, बच्चों एवं आये हुए अतिथियों का आभार ज्ञापित किया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper