शनिदेव को करना है प्रसन्न तो हनुमान जी के सामने जलाएं तेल का दीपक

लखनऊ ट्रिब्यून ब्यूरो: शनि एक ऐसा नाम है जिसे पढ़ते-सुनते ही लोगों के मन में भय उत्पन्न हो जाता है। ऐसा कहा जाता है कि शनि की कुद्रष्टि जिस पर पड़ जाए वह रातो-रात राजा से भिखारी हो जाता है और वहीं शनि की कृपा से भिखारी भी राजा के समान सुख प्राप्त करता है। यदि किसी व्यक्ति ने कोई बुरा कर्म किया है तो वह शनि के प्रकोप से नहीं बच सकता है। यदि आप भी शनि पीड़ा से परेशान हैं तो आज आपको एक ऐसा उपाय बताने जा रहे हैं जिसके करने मात्र से ही शनि देव प्रसन्न हो जाते हैं।

शनिदेव को तेल का दान देने के साथ-साथ चीटियों का आटा खिलाने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। शनि देव को प्रसन्न करने के लिए लोहे का दान भी एक अच्छा उपाय है। किसी गरीब को भोजन करवाना भी एक अच्छा उपाय है। इसके अलावा श्री हनुमान जी की आराधना सबसे अच्छा उपाय माना जाता है। श्री हनुमान जी को कई तरह से प्रसन्न किया जा सकता है।

शनिवार को भगवान श्री हनुमान के मंदिर में तेल का दीपक लगाने और श्री हनुमान चालीसा का पाठ पढ़ने से भगवान शनि की पीड़ा दूर होती है। दरअसल भगवान श्री हनुमान जी शनि पीड़ा को दूर करने के देव माने जाते हैं। भगवान श्री हनुमान के बारह नामों को याद कर भी शनि पीड़ा को दूर किया जा सकता है। इन नामों में ऊॅं हनुमान, अंजनी सुत, वायु पुत्र, रामेष्ठ, पिंगाक्ष, अमित विक्रम, उद्धिक्रमण, सीता शोक विनाशन, लक्ष्मण प्राण दाता, दशग्रीव दर्पहा।

प्रातः का हर दिन भगवान के इन नामों का उच्चारण करने से लंबी आयु मिलती है। अभिष्ट की सिद्धि होती है। रात्रि के समय व्यक्ति की शत्रु से जीत होती है। यही नहीं भगवान श्री हनुमानजी महाराज सभी दिशाओं और आकाश-पाताल से रक्षा करते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper