शनि की उलटी चाल से इन राशियों पर नहीं पड़ेगा बुरा असर, ये लोग होंगे प्रभावित

किसी भी ग्रह की उल्टी चाल उस राशि के लिए हमेशा मुसीबतों को दावत देती है जिस राशि के ग्रह चक्कर लगा रहा होता है। धार्मिक मान्याताओं के अनुसार किसी ग्रह की उल्टी चाल यानी वक्री होना अशुभ माना जाता है। ज्योतिष्यों के अनुसार मई में शनि वक्री दिशा में अपनी चाल चलने लगेंगे। शनि की चाल का जाताकों पर गहरा प्रभाव पड़ता है।

shani dev

मई में शनि की उल्टी चाल से कुछ राशियों की मुसिबतें बढ़ने वाली है खासकर उन लोगों की जिन पर शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या का प्रभाव है। इस बार शनि के व्रकी होने का असर पांच राशियों के लोगों पर खासा रहेगा। धनु, मकर और कुंभ राशियों पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है।

shani

इसके अलावा दो राशि मिथुन और तुला पर शनि की ढैय्या चल रही है। ऐसे में शनि के वक्री होने पर इन पांच राशियों पर सबसे ज्यादा असर पड़ेगा। 11 मई 2020 से शनि अपनी चाल बदल ली है। आपको बता दे, 11 मई को शनि चाल बदलते हुए वक्री हो गए हैं। शनि की यह चाल 142 दिनों तक रहेगी। जिसके चलते 29 सितंबर से शनि वक्री से फिर मार्गी हो जाएंगे। इसका कई राशियों पर असर पड़ेगा।

shani-dev

ज्योतिषी के अनुसार, शनि के वक्री होने का सबसे अधिक असर उन राशि के जातकों पर पड़ेगा जिन राशि पर शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या चल रही होगी। अगर आपकी कुंडली में शनि अशुभ भाव में बैठा है तब जातक को कष्ट मिलेगा। अगर कुंडली में शनि शुभ भाव में है तो अशुभ असर नहीं देखने को मिलेगा।

shani

ज्योतिष में ग्रहों की दो स्थितियां बताई गई हैं। एक मार्गी और दूसरी वक्री। बता दे, मार्गी में ग्रह सीधा चलता है जबकि वक्री स्थिति में ग्रह टेढ़ा या उल्टा चलता है। 18 जून से 25 जून तक 7 दिनों के लिए छह ग्रह वक्री रहेंगे। इसके बाद 25 जून की रात शुक्र ग्रह वृष राशि में मार्गी हो जाएगा। इसके बाद पांच ग्रह वक्री रह जाएंगे।

इन राशियों पर पड़ेगा बुरा असर-

shani

वहीं आपको बता दे, शनि की चाल बदलने से मिथुन और तुला राशि पर शनि की ढैय्या तथा धनु, मकर एवं कुंभ राशि पर शनि की साढ़े साती चलने के परिणामस्वरूप इन राशि वाले लोगों को कुछ दिनों के लिए थोड़ी राहत मिलेगी। इन्हें अपने कर्मों में और अधिक सुधार लाना चाहिए ताकि आने वाला समय अनुकूल रहे।

अन्य राशि वालों को भी सन्मार्ग पर चलते हुए सत्कर्म करने चाहिए। वहीं बुधवार 13 मई को शुक्र वृषभ राशि में वक्री होगा। ये दोनों ग्रह अपनी-अपनी राशि में वक्री रहेंगे। ज्योतिषियों की मानें तो आगामी 18 जून से 25 जून तक छह ग्रह वक्री रहेंगे। यह दुर्लभ संयोग होगा।

इन उपायों से करें शनिदेव को खुश –

1- आप लोग हर शनिवार को शनि देव का उपवास रखें।
2- इन लोगों को शाम के समय पीपल के वृक्ष में जल चढ़ाना और सरसों के तेल का दीपक जलाना शुभ फलदायी हो सकता है।
3- शनि के बीज मंत्र ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः, का 108 बार जाप करना भी शुभ होगा।
4- इस दौरान आप लोग काले या नीले रंग के वस्त्र धारण करें।
5-शनिवार के दिन भिखारियों को अन्न-वस्त्र दान करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper