शर्मनाक! डॉक्टरों ने नहीं की मदद तो महिला को खुद करनी पड़ी अपनी डिलीवरी

नागपुर: सरकारी अस्पताल की एक घटना आजाद भारत और यहां की व्यवस्थाओं पर सवाल खड़े कर रही है। घटना ऐसी है कि सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। महाराष्ट्र के नागपुर में एक 23 साल की गर्भवती महिला शहर के सरकारी अस्पताल में भर्ती थी। इस अस्पताल में मौजूद एक महिला को अपनी डिलीवरी खुद करनी पड़ी, बच्चे को खुद बाहर निकाला। वो दर्द के कारण रो रही थी लेकिन कोई भी अस्पताल का कर्मचारी उसकी मदद के लिए नहीं आया। इसके बाद अस्पताल स्टाफ नहीं पसीजा, महिला और नवजात को नीचे फर्श पर सुलाया गया।

सुकेश्नी श्रीकांत नामक ये महिला साउथ नागपुर इलाके के हुदकेश्वर की रहने वाली है। गर्भवती होने के बाद से उसका इसी सरकारी अस्पताल में इलाज चल रहा था। वो पहली बार मां बनी है। शनिवार की शाम तबीयत खराब होने पर उसे भर्ती कराया गया। सुकेश्नी को अस्पताल पहुंचने पर जमीन पर लेटना पड़ा। जब उसके रिश्तेदारों ने वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत की तो उसे महिला वार्ड में पलंग मिल गया। उसके रिश्तेदारों के अनुसार, रविवार शाम उसे लेबर पेन शुरू हुआ तो उसे प्रसव वार्ड में ले जाया गया।

दर्द कम होने पर डॉक्टर वार्ड से बाहर आ गए। जब आधी रात को सुकेश्नी को दोबारा दर्द शुरू हुआ तो वो वार्ड में अकेली थी। वो मदद की मांग रही थी। जिसके चलते एक अन्य मरीज की रिश्तेदार जाग गई। उस शख्स ने देखा कि सुकेश्नी का बच्चा खुद ही गर्भ से बाहर आ रहा है। फिर उसी ने सुकेश्नी की मदद की। वो दर्द सहन नहीं कर पा रही थी लेकिन फिर भी उसे सब सहना पड़ा। आखिर में उसने खुद ही अपनी डिलीवरी की। इसके बाद सुकेश्वी की मां भी वहां आ गईं, उन्होंने ड्यूटी पर मौजूद नर्स को उठाया।

नर्स ने प्राथमिक उपचार तो किया लेकिन सुकेश्नी को उसके नवजात बच्चे के साथ जमीन पर सोने को कह दिया। सोमवार तक वो बच्चे के साथ जमीन पर थी। लेकिन उसी दिन उसके रिश्तेदारों ने एक बार फिर इसकी शिकायत की जिसके बाद एक बार फिर उसे पलंग मिल गया।

सुकेश्नी के पति श्रीकांत की मांग है डॉक्टरों और नर्स को लापरवाही बरतने के लिए सजा मिलनी चाहिए। उन्होंने इस मामले में मेडिकल प्रशासन से शिकायत भी की है। मेडिकल कॉलेज के एक्टिव डीन एनजी त्रिपुदे ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और जांच के आदेश दिए। उन्होंने कहा, “हमने जांच के लिए तीन सदस्यों की कमेटी बनाई है और उन्हें जल्द से जल्द रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है।” उनका कहना है कि रिपोर्ट आने के बाद जो भी जिम्मेदार होगा उसके खिलाफ जरूरी कार्रवाई की जाएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper