शर्मनाक! तांत्रिक के कहने पर बेरहम बाप ने मार डाले अपने ही पांच बच्चे

जींद। हरियाणा के जींद में पुलिस ने एक व्यक्ति को अपने ही बच्चों की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है। हाल ही में आरोपी की दो बेटियां मुस्कान (11) और निशा (7) डूबकर मर गई थीं। पुलिस ने कथित रूप से इन दोनों बेटियों और उसके पहले एक बेटी और दो बेटों को मार डालने के आरोप में शख्स को गिरफ्तार किया है। आशंका जताई जा रही है कि इस शख्स ने एक तांत्रिक के कहने पर अपने ही पांच बच्चों की जान ले ली।

जींद पुलिस ने 20 जुलाई को उन दो लड़कियों का शव हांसी-बुटाना लिंक नहर से 15 जुलाई को बरामद किया था, जो 15 जुलाई को दिदवाड़ा गांव से गायब हो गई थीं। बच्चियों के गायब होने के बाद उसके पिता जुम्मा ने शिकायत दर्ज कराई थी। जुम्मा मजदूरी करता है और उसकी पत्नी छठे बच्चे के साथ गर्भवती है।
38 वर्षीय आरोपी जुम्मा ने बताया कि उसने पांच साल में अपने पांच बच्चे खोए हैं। पांच साल पहले सोते समय उसके बेटे की मौत हो गई थी। इसके दो साल बाद एक बेटी खेलते वक्त मर गई। उसके कुछ महीने बाद ही एक और बेटे को अचानक उल्टियां हुईं और वह भी मर गया। जुम्मा ने यह भी कहा था कि वह दोषियों के खिलाफ कार्रवाई चाहता है।

हैरानी की बात है कि आरोपी ने अपने किसी भी बच्चे की मौत के बाद उसका पोस्टमॉर्टम नहीं करवाया। अडिशनल एसपी अजीत सिंह शेखावत ने बताया कि लापता होने का केस दर्ज हुआ था लेकिन शव बरामद होने के बाद हमें शक हुआ और हत्या का केस दर्ज हुआ। कथित तौर पर जुम्मा ने ही अपनी बेटियों को कोई दवा देकर गहरी नींद में सुला दिया और नहर में फेंक आया।

जानकारी के मुताबिक, जुम्मा ने ही अपने कुछ पड़ोसियों से अपने अपराध का जिक्र करते हुए अफसोस जताया था। उसके पड़ोसियों ने पुलिस को सूचना दी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। जुम्मा ने एक बार फिर से अपना अपराध लगभग 30 लोगों के सामने स्वीकारा और पुलिस बुलाई गई। उसने कहा कि गरीबी के चलते उसने ऐसा किया। फिलहाल मामले की जांच चल रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper