शर्लिन चोपड़ा को सुप्रीम कोर्ट ने दी राहत, गिरफ्तारी पर लगाई रोक

 


नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को पोर्न रैकेट मामले में बॉलीवुड अभिनेत्री और मॉडल शर्लिन चोपड़ा की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। न्यायमूर्ति विनीत सरन और न्यायमूर्ति अनिरुद्ध बोस की पीठ ने चोपड़ा की याचिका पर महाराष्ट्र सरकार को नोटिस जारी किया और उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी। शीर्ष अदालत में चोपड़ा का प्रतिनिधित्व एडवोकेट सुनील फर्नाडिस ने किया। 18 जनवरी को, सुप्रीम कोर्ट ने पोर्न फिल्म रैकेट मामले में पूनम पांडे को गिरफ्तारी से सुरक्षा प्रदान की थी, जिसमें कुंद्रा मुख्य अभियुक्तों में से एक है।

शीर्ष अदालत ने बॉम्बे हाईकोर्ट के उस आदेश को चुनौती देने वाली पांडे की अपील पर महाराष्ट्र सरकार को नोटिस जारी किया, जिसमें उनकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी गई थी। शीर्ष अदालत ने अपने आदेश में कहा, ” नोटिस जारी. इस बीच, याचिकाकर्ता के खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं की जाएगी।”

पिछले साल नवंबर में बॉम्बे हाईकोर्ट ने पांडे को राहत देने से इनकार कर दिया था। उन्होंने हाई कोर्ट के आदेश को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। प्राथमिकी में पांडे को अभिनेता शर्लिन चोपड़ा के साथ आरोपी बनाया गया है। 15 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट ने कुंद्रा को पोर्न फिल्म रैकेट से जुड़े एक मामले में गिरफ्तारी से चार हफ्ते की सुरक्षा दी थी।

नवंबर 2021 में, बॉम्बे हाई कोर्ट ने कुंद्रा द्वारा पोर्न फिल्म रैकेट मामले में मुंबई पुलिस द्वारा उनके खिलाफ दर्ज प्राथमिकी के संबंध में दायर अग्रिम जमानत याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया था। उच्च न्यायालय द्वारा राहत से इनकार करने के बाद कुंद्रा ने शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया। कुंद्रा ने पहले सत्र अदालत से अग्रिम जमानत मांगी, जिसने उन्हें कोई राहत देने से इनकार कर दिया। इसके बाद, उन्होंने बॉम्बे हाई कोर्ट का रुख किया और दावा किया कि उन्हें कथित तौर पर फंसाया गया था।

मुंबई पुलिस के साइबर सेल ने कुंद्रा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता, महिलाओं का अश्लील प्रतिनिधित्व (रोकथाम) अधिनियम, और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धाराओं के तहत कथित रूप से स्पष्ट यौन वीडियो वितरित करने के लिए मामला दर्ज किया। कुंद्रा ने दावा किया कि वह कथित अवैध वीडियो के निर्माण, प्रकाशन या प्रसारण से जुड़े नहीं थे। उन्हें इस साल जुलाई में मुंबई पुलिस ने एक अन्य मामले में गिरफ्तार किया था, जहां उन पर एक ऐप के जरिए पोर्न फिल्में बांटने का आरोप लगाया गया था। सितंबर में कुंद्रा को जमानत मिल गई थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper