शादी का झांसा दे दो साल तक किया यौन शोषण

लखनऊ: मड़ियांव में रहने वाले युवती को पड़ोसी ने प्रेम जाल में फंसाया। शादी का झांसा देकर दो साल तक यौन शोषण करता रहा। हाल ही में युवती ने शादी करने की बात कही तो वह मुकर गया। इस दौरान आरोपित के ममेरे भाई ने शादी कराने के एवज में ब्लैकमेल करते हुए अवैध संबंध बनाने का दबाव बनाया। विरोध करने पर जान से मारने की धमकी दी। बिरादरी में बात के बाद आरोपित व उसके घरवालों ने शादी से इंकार कर दिया।

विरोध करने पर गाली-गलौज करते हुए तेजाब फेंकने की धमकी दी। पुलिस ने मुख्य आरोपित समेत पांच के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है।थाना क्षेत्र में रहने वाली युवती ने बताया कि मोहल्ले में रहने वाले मुकुल कुमार से उसका प्रेम-प्रसंग था। करीब दो साल पहले मुकुल ने शादी का झांसा दिया। उसके बाद से मुकुल उसका शारीरिक शोषण करता रहा। कुछ दिन पहले पीड़िता ने शादी की बात कही तो मुकुल ने शादी से इंकार कर दिया। पीड़िता ने आपबीती घरवालों को बतायी।

परिजन शिकायत लेकर मुकुल के घर पहुंचे। उसके पिता नरेश ने बिरादरी के बीच बैठकर मामले का हल निकालने के लिए कहा। पीड़िता का कहना है कि इस दौरान मुकुल का ममेरा भाई भइयालाल ने उसे ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। भईयालाल ने कहा कि वह उसकी मुकुल से शादी करा देगा। उसके एवज में उसके साथ संबंध बनाने होंगे। पीड़िता ने इस बात का विरोध किया तो भइयालाल ने सरेराह छेड़छाड़ की और विरोध करने पर धमकाया।

कुछ दिन बाद मुकुल व उसके घरवालों ने शादी से साफ इंकार कर दिया। पीड़िता का आरोप है कि उसे धमकाया गया कि कहीं भी शिकायत की तो तेजाब से उसका चेहरा बिगाड़ देंगे। बुधवार को पीड़िता ने मड़ियांव थाने जाकर पुलिस को आपबीती बतायी। पुलिस ने मुकुल, उसके पिता नरेश, ममेरा भाई भईयालाल व बहन-बहनोई के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper