शादी के बाद लड़कियां करती हैं ये काम तो सावधान, वरना पति हो जाएगा बर्बाद

भारत में पति-पत्नी के रिश्ते को सबसे पवित्र रिश्ता माना गया है इसलिए शास्त्रों में शादीशुदा महिलाएं के लिए कुछ जरूरी बाते बताई गई जिन्हें शादीशुदा महिला को कभी नहीं करना चाहिए इन बातों को अपनाने वाली हर महिला की शादीशुदा जिंदगी खुश रहती है.

  1. शादीशुदा महिला को पति से दूर नहीं रहना चाहिए –

शास्त्रों के अनुसार महिला को भले उसके ससुराल में सुख न मिल रहा हो लेकिन उसे कभी अपने पति से दूर नहीं रहना चाहिए। पति से दूर रहने पर महिला मानसिक रूप से कमजोर हो जाती है। ऐसी महिलाओं को समाज भी नहीं जीने देता है और तरह-तरह के ताने मारता है इसलिए हर एक महिला को हर सुख-दुख में पति का साथ देना चाहिए।

  1. महिलाओं को गलत चरित्र वाले व्यक्तियों से दूर रहना चाहिए –

शादी के बाद महिलाओं को हर किसी व्यक्ति से सोच समझ कर बातचीत करना चाहिए। कई बार गलत चरित्र वाले लोगों से महिला के बोलने से उसकी शादीशुदा जिंदगी में बांधा आने लगती है पति से लड़ाई होने लगती है।

  1. शादीशुदा महिला को अपने ससुराल का अपमान नहीं करना चाहिए –

भले ही शादी के बाद कुछ लड़कियों को उनके मन के मुताबिक उन्हे ससुराल से सुख नहीं मिल रहा हो लेकिन कभी उनका अपमान नहीं करना चाहिए। अपने परिवार की किसी और के सामने बुराई नहीं करनी चाहिए।

  1. शादीशुदा स्त्रियों को किसी पराए घर नहीं रुकना चाहिए –

अक्सर शादी के बाद लड़की का किसी और के घर में रुकना परेशानी खड़ी कर सकता है इसलिए किसी भी परिस्थियों में किसी पराए घर में नहीं रुकना चाहिए। ऐसे में पति और ससुराल वालो के दिमाग में गलत विचार आते हैं और उन्हें गलत नजर से देखा जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper