शादी के लिए इस गांव में नहीं बचा एक भी आदमी, वजह जानकर आप भी रह जायेंगे हैरान

नई दिल्ली: भव्यता के साथ शादी करना हर लड़की का सपना होता है। दुनिया में कुछ जगहें ऐसी हैं जहां बच्चे नहीं हैं। लड़कियां शादी के लिए नहीं आती हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं ब्राजील के एक गाँव की जहाँ लड़कियों की नहीं बल्कि लड़कों की कमी है। आपको इस देश के बारे में जानकारी भी मिलेगी। वास्तव में, ब्राजील के शहर नोइवा में, 20 से 35 वर्ष की महिलाएं अभी भी अपने बच्चों की प्रतीक्षा कर रही हैं।

यहां ऐसी हजारों लड़कियां हैं जिनकी शादी करने की प्रबल इच्छा है। यहां की लड़कियां बहुत खूबसूरत हैं और यहां सबसे बड़ी समस्या लड़कों की नहीं है। यहां की लड़कियां शादी करने का सपना देखती हैं, लेकिन वे शादी की वजह से शहर नहीं छोड़ना चाहती हैं।

ब्राजील में नोएडा शहर कॉर्डियारो में पुरुष हैं, यानी बच्चे हैं, लेकिन वे ज्यादातर शहरों में चले गए हैं। इसलिए गाँव को समृद्ध बनाने की जिम्मेदारी महिलाओं के कंधों पर आ गई। इस गांव में रहने वाली लड़कियां प्यार और शादी का सपना देखती हैं लेकिन सिर्फ शादी के लिए शहर नहीं छोड़ना चाहती हैं। इस शहर की सबसे बड़ी विडंबना यह है कि यहां लड़कों की संख्या लड़कियों की तुलना में बहुत कम है।

यहां रहने वाली लड़कियां चाहती हैं कि दूसरे गांव के लोग उनसे शादी करें और उनके साथ यहां बसें। यह लड़कियों को शादी के लिए लड़के पैदा करने से रोकता है। इस गाँव में बहुत कम पुरुष हैं, जिनमें से कई विवाहित हैं और अविवाहित लोग उम्र में बहुत छोटे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper