शिक्षक भर्ती में जिस तरह से गड़बड़ियों के मामले सामने आए हैं वो चौंकाने वाले हैं: प्रियंका

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा विभाग में 69 हज़ार सहायक शिक्षक भर्ती मामले में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी इस पर सवाल खड़े किए हैं. इसको लेकर प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है. प्रियंका ने लिखा, ‘शिक्षक भर्ती में जिस तरह से गड़बड़ियों के मामले सामने आए हैं वो चौंकाने वाले हैं. ये गड़बड़ियां पूरी व्यवस्था पर ही प्रश्नचिन्ह है. यूपी के युवाओं का भविष्य रौंदा जा रहा है. सरकार इन गड़बड़ियों से जुड़े सारे तथ्य सामने लाए ताकि युवाओं की मेहनत बेकार न जाए और भर्तियों की सही प्रणाली विकसित हो.’

दरअसल, एक महिला उम्मीदवार के नाम के कारण हंगामा खड़ा हो गया है. इस लिस्ट में अर्चना तिवारी ने बाजी मारी है, जबकि उनकी मार्कशीट में कैटेगरी OBC लिखी हुई है, जिसे लेकर लोगों ने आपत्ति जताई है. हालांकि, न्यूज 18 की पड़ताल में इस बात का खुलासा हुआ है कि अभ्यर्थी अर्चना तिवारी ओबीसी कोटे से ही है. अर्चना तिवारी गुसाईं जाति से आती हैं, जो ओबीसी कैटिगरी में शामिल है. हालांकि, उन्होंने जो नाम के साथ टाइटल लगा रखा है वह सामान्य जाति का है. इस तरह से वायरल हो रहे अंकपत्र को लेकर सारा भ्रम दूर हो गया है.

दरअसल, आजमगढ़ निवासी अर्चना तिवारी की मार्कशीट सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है. सभी सवाल उठा रहे हैं कि जो उम्मीदवार नाम से जनरल कैटेगरी का हो, उसका चयन ओबीसी कैटिगरी में कैसे हो गया? मार्कशीट वायरल होने के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया. इस बार 69 हजार शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा में अच्छे अंकों से पास करने वाली अर्चना तिवारी का चयन चर्चा का केंद्र बन गया.

बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने उत्तर प्रदेश में 69 हजार सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर अंतरिम रोक लगा दी है. दरअसल, याचिकाकर्ताओं ने सहायक शिक्षकों के घोषित रिजल्ट में कुछ प्रश्नों की सत्यता पर सवाल उठाए थे. इस पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने भर्ती प्रक्रिया पर रोक लगा दी है. अब अगली सुनवाई 12 जुलाई को होगी.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper