शिवजी से जुडी चीज़ें सपने में दिखाई देने का अर्थ ?

नई दिल्ली: हम सभी सपने देखते हैं। ये सपने ज़िंदगी से जुड़े रहते हैं और कभी कभी तो इनका इस दुनिया से कोई वास्ता ही नहीं होता। किसी को डरावने सपने दिखते हैं, किसी को पेड़-पौधे, जानवरों के सपने दिखते हैं। लेकिन बहुत से लोग ऐसे भी हैं जिन्‍हें सपने में भगवान शिव से संबंधित चीज़ें जैसे शिवलिंग, नाग, त्रिशूल या फिर कभी कभी तो खुद शिव और पार्वती के सपने आते हैं। कहने का मतलब है कि जी भी सपने में दिखाई देते हैं। क्‍या आप अक्‍सर अपने सपने में भगवान शिव को देखते हैं? अगर हां, तो इसके पीछे कई बड़ी चीज़ें छुपी हुई है, जिसके बारे में हम यहां बताने जा रहे हैं।

1- सपने में शिवलिंग का दिखना

शिवलिंग का दिखाई देना सभी अशुभों का नाश करने वाला है। लंबें समय से परेशानियां चल रही हैं और आपको शिवलिंग दिखे तो समझ ले कि अच्छा समय शुरू होने वाला है। ये संपदा मिलने का भी इशारा है। ऐसा होने पर आपको किसी शिव मंदिर में जाकर वहां शिवलिंग पर दूध चढ़ाना चाहिए।

2- सपने में शिव जी का चांद दिखना

शिव जी के सिर पर लगा हुआ चाँद दरअसल ज्ञान का प्रतीक है। यह सपना देखने का मतलब है कि आपको कोई महत्वपूर्ण फ़ैसला करना है। ये फ़ैसला शादी-ब्याह, शिक्षा आदि से संबंधित हो सकता है। यदि आप किसी बड़े एक्जॉम के रिजल्ट का इंतज़ार कर रहे हैं तो यह सपना आपके लिए निश्चित सफलता का संकेत हो सकता है।

3- सपने में शिव-पार्वती को एक साथ देखना

सपने में शिव-पार्वती को देखने का मतलब है कि नए अवसर आपके दरवाजे पर दस्तक दे रहे हैं। जल्द ही आपको लाभ, धन आदि की ख़बर सुनने को मिल सकती है। शिव और पार्वती को एक साथ देखना काफी अच्‍छा शगुन माना जाता है। जो लोग कुंवारे हैं उन्हें ये स्वप्न दिखाई दे तो ये शीघ्र विवाह का संकेत हो सकता है। यदि पति-पत्नी में लंबे समय से मतभेद हो रहे हैं तो यह सपना जल्द ही सब कुछ ठीक होने की और संकेत करता है।

4- सपने में तांडव करते हुए शिव जी को देखना

सपने में तांडव करते हुए शिव भगवान को देखना आक्रामकता और जुनून का संकेत है। अगर ऐसा सपना आए तो इसका मतलब है कि आपकी सभी समस्‍याएं जल्‍द ही हल होने वाली हैं और साथ ही आपको धन लाभ भी होगा लेकिन थोड़ी महनत करनी पड़ेगी।

5- सपने में शिव जी का मंदिर दिखना

सपने में भगवान शिव का मंदिर दिखाई देना बहुत ही शुभ संकेत है। यदि आप लंबे समय से किसी बीमारी से जूझ रहे हैं या आपको कोई दूसरी व्याधि परेशान कर रही है तो आपको जल्दी ही उससे छुटकारा मिलने वाला है।

6- सपने में शिव जी का त्रिशूल देखना

त्रिशूल शक्ति का प्रतिक है। सपने में त्रिशूल दिखने का अर्थ है आपका कार्यक्षेत्र में वर्चस्व बढ़ेगा। त्रिशूल का दिखाई देना सभी पीड़ा और समस्याओं से राहत दिलवाने वाला भी माना गया है।

7- सपने में शिव जी की तीसरी आंख देखना

शिव जी की तीसरी आंख सतर्कता और जागरूकता के विषय में बताती है। यह सपना आपको जीवन में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव का संकेत देता है।

8- सपने में शिव जी का डमरू देखना

शिव जी का डमरू ध्वनि का प्रतिक है। इसका सपना देखा है, तो आपके व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में कुछ बहुत ही बढ़िया सकारात्मक परिवर्तन आने वाला है। जो भी नया काम करेंगे उसमें निश्चित ही सफलता मिलेगी।

9- सपने में शिव के सिर से गंगा नदी का बहना

गंगा का मतलब है ज्ञान, यानी जो आपकी आत्‍मा को पवित्र कर दे। सिर हमेशा ज्ञान का प्रतीक होता है। जबकि दिल प्रेम का प्रतीक माना जाता है। अगर आपने सपने में देखा हो कि मां गंगा, शिव जी के सिर से बह रही हों, तो इसका मतलब है कि आपको प्रेम, ज्ञान प्राप्‍त होगा और संपन्नता भी आएगी।

10- सपने में सांप दिखना

सांप उन लोगों को भी दिखते हैं जिन्हें धन मिलने वाला होता है। अगर सांप फन फैलाए हुए हो और आप उसको पीछे की ओर से देखें तो आपके लिए शुभ फल देने वाला रहेगा। आपके साथ नाग देवता का आशिर्वाद रहेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper