शिवपाल, आजम के बाद सांसद सुखराम के बागी तेवर, अखिलेश को दी नसीहत

लखनऊ: उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में हार के बाद समाजवादी पार्टी में बगावत की जो हवा चली थी, वह धीरे-धीरे आंधी का रूप लेने लगी है। शिवपाल सिंह यादव और आजम खान की नाराजगी के बाद सांसद सुखराम सिंह यादव ने उनका चैन छीनने वाले हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात के बाद सुखराम ने बागी सुर छेड़ दिए हैं। पीएम और सीएम की तारीफ करते हुए सांसद सुखराम ने कहा कि अखिलेश की कार्यशैली ठीक नहीं है, बड़ी संख्या में लोग समय का इंतजार कर रहे हैं।

बता दें, कि सुखराम के बेटे पहले ही भाजपा में शामिल हो चुके हैं। अब मोदी-योगी से मुलाकात के बाद राज्यसभा सांसद सुखराम ने आजम खान से भी सहानुभूति जताकर कहा कि उन्होंने पार्टी के लिए जी-जान लगाया, लेकिन सपा ने साथ नहीं दिया। सुखराम ने पीएम मोदी और सीएम योगी की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा, मेरी पीएम मोदी और सीएम योगी से अलग-अलग मुलाकात हुई है। दोनों से मुलाकात में मैंने महसूस किया कि दोनों अभूतपूर्व क्षमता वाले लोग हैं। इनका कोई जोड़ नहीं है। यह कहने में मुझे कोई संकोच नहीं है।”

आजम को लेकर किए गए सवाल के जवाब में सुखराम ने कहा कि उनकी नाराजगी जायज है। जिस तरह पार्टी की टॉप लीडरशिप को उनका साथ देना चाहिए था वह नहीं हुआ। जब कोई व्यक्ति पार्टी के लिए जी-जान लगाता है, लेकिन पार्टी उसका साथ नहीं देती है,तब दुख होता है। सुखराम ने अखिलेश यादव को काम करने का तरीका बदलने की नसीहत देकर कहा, पार्टी में बहुत से लोग समय का इंतजार (छोड़ने के लिए) कर रहे हैं। यदि आपकी यह कार्यशैली रही तब लोग फैसला लेने वाले हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper