शिवराज का ट्वीट अप्रत्यक्ष मोदी सरकार पर हमला

भोपाल: प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने कहा कि प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का वह ट्वीट काबिल-ए-तारीफ़ है, जिसमें उन्होंने सलीके के साथ सच बोलने का साहस कर मोदी सरकार पर अप्रत्यक्ष सांकेतिक हमला बोलते हुए एलआईसी, बीएसएनएल, बीपीसीएल, एयर इंडिया, एयरपोर्ट्स और रेलवे जैसी पुरखों की गौरवशाली विरासतों को पूरी बेशर्मी से बेच डालने की नीति का खुला विरोध किया है।

शिवराज ने यह भी सिद्ध कर दिया है कि पार्टी से पहले देश है और उसको बेचने की निंदनीय हिमाकत को, कोई भी सच्चा राष्ट्रभक्त कभी बर्दाश्त नहीं करेगा। ओझा ने आगे कहा कि शिवराज सिंह चौहान ने कवि कुमार विश्वास के विचारों को अपने दिल की बात बताते हुए यह ट्वीट किया है कि हनक सत्ता की, सच सुनने की आदत बेच देती है, हया को शर्म को, आखिर सियासत बेच देती है, निकम्मेपन की बेशर्मी, अगर आंखों पे चढ़ जाए, तो फिर औलाद,पुरखों की विरासत बेच देती है। उनका यह ट्वीट मोदी सरकार की नीतियों पर बोला गया वह अप्रत्यक्ष हमला है, जिसका साहस उनकी पार्टी में शायद ही कोई और कर पाएगा।

ओझा ने कहा कि आजादी के बाद, पिछले सात दशकों में देश ने अभूतपूर्व प्रगति करते हुए नवरत्न कंपनियों, बड़े-बड़े बांधों, आईआईटी, आईआईएम, एम्स, इसरो, बीएआरसी के साथ ही, कई ऐसे संस्थान खड़े किए, जिनके कारण भारत की गणना विश्व के अग्रणी देशों में होने लगी थी किंतु 2014 के लोकसभा चुनावों में बोले गए ऐतिहासिक झूठ और जुमलों के दम पर केंद्र की सत्ता में आई मोदी सरकार ने नोटबंदी और अव्यावहारिक जीएसटी जैसे तुगलकी फैसलों से इस देश को बर्बादी की कगार पर पहुंचा दिया। पिछले 50 वर्षों की सर्वाधिक बेरोजगारी दर के साथ ही जीडीपी जिस तरह से धराशाई हुई है, उससे भारत की तुलना पाकिस्तान और बांग्लादेश की अर्थव्यवस्थाओं से होने लगी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper