शिवराज ने किया कर्मचारियों का अपमान : कमलनाथ

भोपाल: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा आज निर्वाचन आयोग के भारतीय जनता पार्टी के प्रति व्यवहार को ‘अमानवीय’ बताने पर कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा है कि ये चुनाव कर्मचारियों का अपमान है और मुख्यमंत्री को इस मामले में माफी मांगनी चाहिए।

कमलनाथ ने ट्वीट करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री भाजपा को चुनाव आयोग द्वारा अमानवीय तरीके से प्रताडि़त किए जाने की बात कह रहे हैं। उन्होंने ऐसा कहकर चुनाव कार्य में लगे कर्मचारियों का अपमान किया है व उनकी निष्पक्षता पर संदेह व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान को संवैधानिक संस्था पर प्रताडऩा के मामले स्पष्ट करना चाहिये और इस पर माफी मांगना चाहिये। चौहान ने आज संवाददाताओं से चर्चा के दौरान कहा था कि चुनाव के दौरान निर्वाचन आयोग ने वास्तव में सख्ती भाजपा के साथ की है।

बुलन्दशहर में गोकशी से मुख्यमंत्री नाराज,घटना को बताया बड़ी साजिश

उन्होंने एक उदाहरण के माध्यम से आयोग के व्यवहार को ‘अमानवीय’ बताते हुए कहा कि विदिशा में एक कार्यकर्ता रघुवीर दांगी के निधन के बाद वे उनके अंतिम संस्कार में जाना चाहते थे, लेकिन आयोग ने ये कहते हुए उन्हें अनुमति नहीं दी कि वे दूसरे विधानसभा क्षेत्र में नहीं जा सकते। उन्होंने कहा कि इसके बाद भी भाजपा किसी प्रकार की कोई शिकायत नहीं कर रही।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper