शिवसेना ने दी अश्लीलता फैला रहे अवैध लेडीज इनरवियर दुकानों के लाइसेंस कैंसिल करने की चेतावनी

बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना अपनी कार्यप्रणाली को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहती है. इस बार वो मुंबई में अवैध लेडीज इनरवेयर मैनीक्वीन (कपड़े पहने हुए पुतलों) को हटाए जाने के आदेश को लेकर चर्चा में है. मुंबई महानगर पालिका की लॉ कमेटी की चेयरमैन और शिवसेना की कॉरपोरेटर शीतल महात्रे ने बीएमसी प्रशासन से कहा है कि वो अगले 15 दिनों में दुकानों से अवैध लेडीज इनरवेयर मैनीक्वीन (कपड़े पहने हुए पुतलों) को हटाए. इस दौरान अगर कोई दोषी पाया जाता है तो उसका लाइसेंस रद्द करे.

न्‍यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार शीतल महात्रे ने कहा, ‘यह प्रपोजल लॉ कमेटी के सामने पिछले 6 साल से आ रहा है और बीएमसी के पास इनके (अवैध लेडीज इनरवेयर, मैनीक्वीन) खिलाफ कार्रवाई के लिए कोई कड़ा नियम नहीं है. हालांकि डिसप्‍ले का एक उचित तरीका है और अब हमने दोषी पाए गए लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने का फैसला किया है.’

यह आदेश सोमवार को लॉ कमेटी की मीटिंग में पास हुआ और इसका असर आने वाले दिनों में साफ तौर पर देखने को मिलेगा. महात्रे ने कहा, ‘मैंने अधिकारियों को सख्त कार्रवाई करने के लिए कहा है. अगर जरूरत पड़ी तो लाइसेंस भी कैंसल किया जा सकता है.’ उन्‍होंने आगे कहा, ‘शहर में कई ऐसी जगह हैं जहां पुतलों को लेडीज इनरवेअर के साथ पेड़ों पर लटकाया जाता है जो अश्लीलता फैलाता है. यह महिलाओं के लिए शर्मनाक है. लेडीज इनरवेअर का विज्ञापन करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि महिलाओं को पता है कि उन्हें यह कहां से खरीदना है.’

बता दें कि 2013 में शिवसेना कॉरपोरेटर ऋतु तावड़े (Ritu Tawde) ने महिलाओं के इनरवेयर बेचने वाली दुकानों से पुतले हटाने की मांग की थी. तब प्रशासन ने कहा था कि एमएमसी एक्ट में इस तरह का कोई प्रावधान नहीं है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper