शिवसेना ने बेलगाम को बताया महाराष्ट्र का हिस्सा, कहा- इसे ठोकशाही से लेंगे

दिल्ली ब्यूरो: कर्नाटक के बेलगाम शहर पर शिव सेना ने अपना दावा ठोका है। शिव सेना ने कहा है कि बेलगाम महाराष्ट्र का हिस्सा है और उसे हम लेकर रहेंगे। अगर लोकतंत्र में लोकशाही के जरिए यह मिल जाता है तो ठीक है वरना ठोकशाही से इसे ले लेंगे। शिवसेना के इस बयान के बाद बेलगाम में तनाव बढ़ जाने की खबर है।

बता दें कि कर्नाटक और महाराष्ट्र की सीमा पर बसे बेलगाम जिले को लेकर शिवसेना बार बार दावा करती रही है। अब खुले तौर पर उसने मोर्चा खोल दिया है। शिवसेना ने साफतौर पर इस सीमाई क्षेत्र को महाराष्ट्र का हिस्सा बतायाहै इतना ही पार्टी ने कहा कि अदालत का आदेश आने तक इसे केंद्रशासित प्रदेश घोषित कर दिया जाए। शिवसेना के प्रवक्ता और सांसद संजय राउत ने कहा, ‘हम बेलगाम जाने की इजाजत चाहते हैं, न कि पाकिस्तान। बेलगाम महाराष्ट्र का है, दोनों का इतिहास एक-समान है, दोनों की संस्कृति एक जैसी है।

इस सीमाई क्षेत्र पर कोर्ट फैसला करेगी। तब तक के लिए हम मांग करते हैं कि इस क्षेत्र को संघीय प्रदेश घोषित किया जाए।’ संजय राउत ने कहा, ‘जब कभी बेलगाम और दूसरे सीमाई इलाकों में जनता के साथ नाइंसाफी होती है, तो इसका असर महाराष्ट्र के सभी हिस्सों में देखा जा सकता है। यदि कश्मीर, कावेरी, सतलज और बेलगाम का मुद्दा लोकशाही (लोकतंत्र) के जरिए हल नहीं किया जाता, फिर हम ठोकशाही (हिंसा) का चुनाव करेंगे। ‘

इससे पहले कर्नाटक चुनाव की तारीख कथित तौर पर लीक होने के मामले में शिवसेना ने भाजपा पर तीखा हमला करते हुए कहा कि लोकतंत्र के स्तंभों को ध्वस्त किया जा रहा है। शिवसेना ने चुनाव आयोग पर सरकार के दबाव में काम करने का आरोप लगाया। पार्टी ने चुनाव आयोग से सवाल किया है कि वह‘ भाजपा के अनुरूप’ काम कर रही है। शिवसेना की यह टिप्पणी भाजपा के आईटी सेल के प्रमुख के एक विवादित ट्वीट के संबंध में आयी थी. दरअसल भाजपा के आईटी सेल प्रमुख ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव की तारीख की घोषणा चुनाव आयोग से पहले कर दी थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper