शिवसेना ने शिकायत दर्ज कराई, कंगना रनौत पर दर्ज हो राजद्रोह का मुकदमा

मुंबई: सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में मुखर रहने वालीं कंगना रनौत इन दिनों अपने बयानों को लेकर काफी सुर्खियों में हैं, मगर अब इन्हीं बयानों से उनकी मुश्किलें भी बढ़ती जा रही हैं। मुंबई की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से करने पर शिवसेना की ओर से कंगना रनौत के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई है और उनके खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज कर एफआईआर करने की मांग की गई है।

शिवसेना की आईटी सेल ने ठाणे के श्रीनगर पुलिस स्टेशन में कंगना रनौत के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। शिवसेना आईटी सेल ने अपनी इस शिकायत में मांग की है कि मुंबई की तुलना पाकिस्तान वाले कश्मीर से करने के लिए अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज कर एफआईआर की जाए।

दरअसल, कंगना ने अपने बयान में कहा था कि मुंबई में उन्हें डर लगता है क्योंकि मुंबई की हालत पाकिस्तान वाले कश्मीर जैसी हो गई है। इसके बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने भी तीखी प्रतिक्रिया दी थी और उन्हें ‘हरामखोर’ लड़की बता डाला था। हालांकि, इसके बाद उन्होंने हरामखोर का मतलब नॉटी बोलकर सफाई देने की कोशिश की। शिवसेना चाहती है कि कंगना अपने बयान के लिए माफी मांगे।

बता दें कि इन्हीं बयानों और शिवसेना के साथ तकरार के मद्देनजर केंद्र सरकार की ओर से कंगना रनौत को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गई है। इस सुरक्षा के तहत उनके साथ दस कमाडो होंगे। कंगना 9 सितंबर को मुंबई जानें वाली हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper