संघ के कारण खौफ के माहौल में अयोध्या की आवाम: जिलानी

लखनऊ ब्यूरो। अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर विवाद में मुस्लिम पक्ष के अधिवक्ता जफरयाब जिलानी ने कहा कि हिन्दू संगठनों की अयोध्या में गतिविधि के पीछे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ है। आज अयोध्या की आवाम संघ के कारण ही खौफ के माहौल में जीने को मजबूर है।

मुस्लिम पक्ष के अधिवक्ता जफरयाब जिलानी ने कहा कि भाजपा और शिवसेना को लेकर मंदिर के नाम पर राजनीति करते रहे हैं। अब शिवसेना अयोध्या में कार्यक्रम के जरिए यह बताना चाहती है कि भाजपा इस मुद्दे पर गम्भीर नहीं है। जबकि संघ ने अपनी पूरी ताकत को झोंक दी है।

जिलानी ने कहा कि अयोध्या में एक के बाद एक दो कार्यक्रमों के तय करने के पीछे ही योजना बनी होगी। पहले शिवसेना महारैली कर रही है, फिर संघ के दम पर विश्व हिन्दू परिषद महासभा करने जा रही है। इससे अयोध्या की आवाम खौफजदा है और आम लोगों के मन में भय व्याप्त है।

उन्होंने कहा कि अयोध्या में खौफ में बहुत सारे लोग हैं और इसके लिए उन्होंने प्रदेश के गृह विभाग के सचिव, पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर सूचित किया है। अगर अयोध्या में किसी प्रकार की कोई गड़बड़ी सामने आती है तो वे स्वयं उन सबूतों को लेकर सुप्रीम कोर्ट तक जाएंगे।
बता दें कि

अयोध्या में विहिप की धर्मसभा की घो​षणा होने के साथ ही मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी ने सुरक्षा की मांग की थी। इस पर उप्र के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने हर सम्भव सुरक्षा उपलब्ध कराने की बात भी की थी। इसके बाद एक दरोगा और चार गनर इकबाल अंसारी की सुरक्षा में तैनात कर दिए गए।

वहीं अयोध्या के माहौल को लेकर कानून व्यवस्था बनाए रखने के उद्देश्य से दो वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी एडीजी तकनीक आशुतोष पाण्डेय और डीआईजी झांसी सुभाष सिंह को वहां भेजा गया। इसके साथ ही आज शनिवार को तीन अन्य आईपीएस अधिकारियों राजेश पाण्डेय, वैभव कृष्ण और मोहन पी कनय को भी तैनात किया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper