संत की सरकार में संतों पर खतरा: मायावती

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के गोंडा में शनिवार रात जमीन विवाद में एक पुजारी को गोली मारने के मामले ने राजनीतिक रंग ले लिया है। इस घटना के बाद तमाम विरोधी दल योगी सरकार पर निशाना साधने से नहीं चूक रहे हैं। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने पुजारी पर जानलेवा हमलों को लेकर उत्तर प्रदेश में योगी सरकार को घेरा और कहा कि संत की सरकार में कानून व्यवस्था की स्थिति बदतर हो सकती है। यहां तक ​​कि संत भी सुरक्षित नहीं है, यह बहुत शर्मनाक है। बसपा सुप्रीमो ने यूपी सरकार के दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई और जमीन मालिकों की संपत्ति को जब्त करने की मांग की है।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट कर कहा, कि राजस्थान जैसे यूपी के गोंडा जिले में, राजस्थान में मंदिर की जमीन पर कब्जा करने के इरादे से भू-माफियाओं द्वारा मंदिर के पुजारी पर जानलेवा हमला बेहद शर्मनाक है यानी अब संत सरकार में भी है असुरक्षित। इससे बदतर कानून और व्यवस्था की स्थिति क्या हो सकती है।

एक अन्य ट्वीट में मायावती ने कहा कि यूपी सरकार को इस मामले में सभी पहलुओं का कड़ा संज्ञान लेना चाहिए और दोषियों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए और इस घटना से जुड़े सभी भू-माफियाओं की संपत्ति को भी जब्त करना चाहिए। इसके अलावा साधु-संतों की सुरक्षा भी बढ़ाई जानी चाहिए। बता दें कि यूपी में गोंडा जिले के इटियाथोक थाना क्षेत्र में स्थित श्री राम जानकी मंदिर के पुजारी सीताराम दास के बीच काफी समय से विवाद चल रहा है।

सालों से चले आ रहे इस विवाद में पुजारी सीताराम दास पर हमला हुआ है। शनिवार देर रात इन बदमाशों ने मंदिर के एक और पुजारी बाबा सम्राट दास को गोली मार दी, जो सीताराम दास के साथ रहते थे। जिसके बाद पुजारी सम्राट दास को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें लखनऊ के ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया। इस मामले में, पुजारी सीताराम दास ने 04 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। जिनमें से 02 से पुलिस हिरासत में पूछताछ की जा रही है जबकि दो अन्य की तलाश चल रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper