‘संबित जी याद कर लो 20 लाख करोड़ के जीरो’, BJP नेता का ट्वीट- फिर डिलीट

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के संतकबीर नगर से बीजेपी के पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी अपने ही पार्टी के विधायक को जूता मारकर सुर्खियों में आए थे. अब वह अपनी पार्टी के प्रवक्ता संबित पात्रा को ट्वीट कर मजाक उड़ाने को लेकर चर्चा में आ गए हैं. शरद त्रिपाठी ने ट्वीट कर कहा, ‘ संबित जी याद कर लीजिए 20 लाख करोड़ में 13 जीरो होते हैं, वर्ना कल से कुछ लोग बार-बार यही पूछेंगे और डिबेट बेकार करेंगे.’

दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन झेल रहे देश की आर्थिक हालत सुधारने के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज का ऐलान किया है. पीएम मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा था कि इस पैकेज का इस्तेमाल देश के हर वर्ग किसान, मजदूर, लघु उद्योगों और कामगारों की मदद के लिए मदद किया जाएगा. इसी 20 लाख करोड़ को लेकर शरद त्रिपाठी ने बीजेपी प्रवक्ता के लिए कमेंट किया था.

बीजेपी नेता संबित पात्रा किया गया अब ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया तो पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी ने उसे डिलीट कर दिया और सफाई दे रहे हैं. शरद त्रिपाठी ने दूसरे ट्वीट कर कहा है कि कुछ लोगों को 20 लाख करोड़ का आर्थिक पैकेज पच नहीं रहा है. इसलिए अर्थ का अनर्थ करने पर लगे हुए हैं. उन्होंने कहा, ‘मेरे कथित ट्वीट में मैंने संबित पात्रा को संबोधित करते हुए उन लोगों को चेताया था जो लोग हर डिबेट में मुद्दे को भटकाकर इधर-उधर की बातें करते हैं.

दरअसल मोदी सरकार के 100 दिन पूरे होने पर एक मीडिया डिबेट में कांग्रेस के प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने संबित पात्रा से पूछा था कि आपकी सरकार 5 ट्रिलियन डॉलर का नारा दे रही है, तो चलिए आप ही बता दीजिये कि 5 ट्रिलियन में कितने जीरो होते हैं. गौरव ने अपने इस सवाल से संबित पात्रा को घेर लिया था. अक्सर डिबेट में आक्रमक रुख रखने वाले संबित पात्रा उस मौके पर रक्षात्मक रुख में नजर आ रहे थे. इसके बाद गौरव वल्लभ ने जबाव दिया था कि 5 ट्रिलियन में 12 जीरो होते हैं.

आजतक से साभार

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper