संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान दिल्ली में होगा प्रदर्शन: सर्वजन हिताय

लखनऊ ब्यूरो । डालीबाग स्थित गन्ना संस्थान में पदोन्नति में आरक्षण व संशोधित एससी-एसटी एक्ट के विरोध में शुक्रवार को सर्वजन हिताय संरक्षण समिति का एक दिवसीय अखिल भारतीय सम्मेलन हुआ। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि सेवानिवृत्त पुलिस महानिदेशक एमसी द्विवेदी ​रहे।

सम्मेलन में पदोन्नति में आरक्षण व संशोधित एससी-एसटी एक्ट को लेकर प्रस्ताव भी पारित हुआ है, जिसकी प्रतिलिपि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व मुख्य सचिव, उप्र को भेजा जायेगा।
समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष शैलेन्द्र दुबे ने कहा कि पदोन्नति में आरक्षण व संशोधित एससी-एसटी एक्ट के विरोध में राष्ट्रव्यापी आंदोलन का निर्णय लिया गया है।

उन्होंने कहा कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान दिल्ली में विशाल प्रदर्शन का आयोजन होगा। किसी भी एकतरफा कार्यवाही को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उन्होंने कहा पदोन्नति में आरक्षण लागू होगा तो प्रदेश के 18 लाख कर्मचारी हड़ताल करेंगे।
शैलेन्द्र ने कहा कि समिति ने एक्ट व पदोन्नति को लेकर प्रस्ताव पारित किया है। एक्ट के तहत तुरंत मुकदमा दर्ज करने के बजा पुलिस उपाधीक्षक से प्रारंभिक जांच करायी जाए।

पदोन्नति में आरक्षण व संशोधित एससी-एसटी एक्ट के विरोध में राष्ट्रीय सम्मेलन

सरकारी कर्मचारी की गिरफ्तारी से पहले सक्षम नियुक्त अधिकारी से जांच करायी जाए। सामान्य व पिछड़ी जाति के व्यक्ति की गिरफ्तारी से पहले वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक की मंजूरी लिया जाए। वहीं, शिकायत दर्ज होने पर अग्रिम जमानत का अधिकार मिलना चाहिये।
दुबे ने कहा कि केन्द्र या योगी सरकार सामान्य व पिछड़ी जाति के साथ अन्याय करेगी तो सड़क पर आंदोलन होगा। उन्होंन कहा कि प्रदेश के सभी जनपदों में सरकार की नीतियों का खुलासा किया जायेगा। प्रदेशव्यापी जन-जागरण के लिये जागरुकता रथ निकाला जायेगा। सम्मेलन में कर्मचारी, अधिवक्ता, शिक्षक समेत अन्य तबके के लोग सम्मिलित हुए।

सम्मेलन में वक्ताओं ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इन विसंगतियों को दूर करें। एक्ट व पदोन्नति के द्वारा समाज में विष घोला जा रहा है। प्रतिभागियों ने कहा कि पद्दोन्नति में आरक्षण स्वीकार नहीं है। इससे योग्यता को दरकिनार किया जा रहा है। देश में ज्येष्ठता व श्रेष्ठता का अपमान नहीं होना चाहिए। वहीं, एससी-एसटी एक्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि सरकार इस एक्ट को तत्काल वापस ले, अन्यथा देश में भाई-चारा विखंडित हो जाएगा। इस एक्ट का दुरुपयोग होगा।

सम्मेलन में मध्य प्रदेश से डॉ. केएस तोमार, राजस्थान से पाराशर नारायण शर्मा कर्नाटक से एल रवि, आंध्र प्रदेश से केश्री निवास, तेलांगना से सैय्यद नसीरुल हक, हरियाणा से बलबीर सिंह, उत्तराखंड से पीएल रतूड़ी, दिल्ल से संतोष राय, पंजाब से बलदेव शर्मा, छत्तीसगढ़ से एपी सिंह और हिमाचल प्रदेश स भूतेश्वार चौहान ने सम्मेलन को संबोधित किया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper