सत्ता बचाने को इंदिरा गांधी ने लगाया था आपातकाल : जावड़ेकर

नई दिल्ली: भाजपा ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के आपातकाल को याद किया। सोमवार को पार्टी कार्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि आपातकाल में राजनीतिक बंदियों के साथ जिस तरह का व्यवहार किया गया, उसे भुलाया नहीं जा सकता। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कांग्रेसी की तत्कालीन सरकार ने हर वर्ग के मौलिक अधिकारों का हनन किया। इंदिरा गांधी ने अपने शासन को बचाने के लिए आपातकाल का इस्तेमाल किया था।

इस मौके पर पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल एवं प्रदेश अध्यक्ष समेत अन्य पार्टी नेताओं ने संबोधन किया। समारोह में करीब 150 लोगों को सम्मानित भी किया गया। राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल ने कहा कि आपातकाल देश का काला अध्याय है। युवा पीढ़ी को बताने के लिए समय-समय पर र्चचा जरूरी है। प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि लोकतांत्रिक ढांचे को मजबूत करने के लिए आपातकाल को याद रखना जरूरी है। आपातकाल के बाद लोकतंत्र और मजबूत होकर उभरा। तिवारी ने आपातकाल के बंदियों के सम्मान में गीत भी सुनाया।

समारोह को प्रो. विजय कुमार मल्होत्रा, सत्यनारायण जटिया, विजेंद्र गुप्ता, सतीश उपाध्याय, श्याम जाजू, तरुण चुघ, पूर्व मेयर महेश चंद शर्मा, राजेश भाटिया ने संबोधित किया। कार्यक्रम का शुभांरभ पार्टी व संघ के दिवंगत नेताओं की प्रतिमा पर माल्यार्पण करके किया गया। पूर्व मेयर पृवीराज साहनी, सुभाष आर्य, ओपी बब्बर, मांगेराम गर्ग, मोहिनी गर्ग, मूलचंद चावला, रामभज समेत 150 आपातकाल के बंदियों का सम्मान किया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper