सत्येंद्र जैन के लिए अब नई मुसीबत, रिश्वतखोरी में सीबीआई ने रजिस्ट्रार समेत दो को किया गिरफ्तार

नई दिल्ली: केजरीवाल सरकार के स्वास्य मंत्री सत्येंद्र जैन एक बार फिर मुश्किल में फंसते नजर आ रहे हैं। इसकी वजह है सीबीआई द्वारा मारे गए एक छापे में उनकी संपत्ति और बैंक खातों से जुड़े दस्तावेजों का मिलना। दिल्ली डेंटल काउंसिल के रजिस्ट्रार ऋषि सिंह और वकील प्रदीप शर्मा की शनिवार रात हुई गिरफ्तारी के बाद एक लॉकर की तलाशी में सीबीआई को कुछ दस्तावेज मिले हैं। इनमें करोड़ों की संपत्ति के कागज और चेक बुक शामिल हैं।

सीबीआई के आधिकारिक बयान में बताया गया है कि ऋषि और प्रदीप की गिरफ्तारी एक व्यक्ति से 4.73 लाख की रिश्वत लेने के आरोप में हुई है। आरोप है कि इन दोनों ने इस व्यक्ति से वादा किया था कि वह दिल्ली डेंटल काउंसिल में ब्लैकलिस्ट से जुड़े उनके मामले को सुलझा देंगे। सीबीआई ने मनी लांड्रिंग के एक मामले में पहले ही सत्येंद्र जैन के खिलाफ एफआईआर दर्ज की हुई है। अब मिले दस्तावेजों को लेकर भी सत्येंद्र जैन से पूछताछ की जाएगी। तलाशी के दौरान सत्येंद्र जैन की तीन संपत्तियों के दस्तावेज मिले हैं।

दिल्ली डेंटल काउंसिल के रजिस्ट्रार के यहां छापे में मिले जैन से जुड़ी कथित संपत्ति के दस्तावेज

इनमें 12 बीघा 2 बिस्वा, 8 बीघा 17 बिस्वा जमीन और 14 बीघा जमीन की पावर ऑफ अटॉर्नी से जुड़े दस्तावेज हैं। ये जमीनें बाहरी दिल्ली स्थित कराला गांव की हैं। इसके अलावा 24 लाख कैश, आधा किलोग्राम सोना, 2 करोड़ रपए की डिपॉजिट स्लिप और करोड़ों रपए के लेनदेन से जुड़ी 41 चेक बुक भी मिली हैं। हालांकि, अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि ये कैश और गोल्ड सत्येंद्र जैन के हैं या नहीं।केजरीवाल के मीडिया सलाहकार नागेंद्र शर्मा ने ट्वीट कर भाजपा पर आरोप लगाया है कि वह सत्येंद्र जैन के खिलाफ अब तक कुछ हासिल नहीं कर पाई है इसलिए उन्हें इस नए मामले में फंसाया जा रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper