सपने में दिखे मंदिर तो जानिए क्या होगा आपके साथ

सपने तो स्वाभाविक होते हैं हर इंसान को सपने आते है किसी को कुछ तो किसी को कुछ लेकिन स्वप्न शास्त्रों के अनुसार हर सपने हमारे जिंदगी से जुड़े होते है। हमारे आने वाली जिंदगी में आने वाली घटनाओं की और इशारा करती है । जिसे हम समझना पडता हैं जानना पडता है । और एक बात आपको बता दूं कि हर सपने के दो पहलू हो सकते हैं एक तो हमे शुभ फल देते हैं वही दूसरी तरफ अशुभ फल । तो आज हम जानेगे की अगर कोई इंसान अपने सपने में मंदिर देखता है तो यह किस प्रकार का सपना होता है अच्छा सपना है या बुरा सपना ।

तो दोस्तों आप सभी को पता होगा कि मंदिर एक शुभ एवं पवित्र स्थान होता है लेकिन क्या सपने में मंदिर देखना भी शुभ होता है तो इसका जवाब होगा हाँ सपने में मंदिर दिखाई देना एक शुभ स्वप्न माना जाता है । इसका अर्थ जानने से पहले यह भी जानना जरूरी है कि वैज्ञानिक दृष्टिकोण से इस प्रकार के सपने का मतलब बताया गया है जी हाँ दोस्तों वैज्ञानिक दृष्टिकोण से बताया गया है कि ऐसे सपने उस इंसान को आ सकते हैं जिन्होंने अपनी किसी इच्छा को पाने के लिए अपने मन में मंदिर में पूजा अर्चना करने का संकल्प लिया है लेकिन जब उनकी इच्छा पूरी हो जाती है तो वह भूल जाता है इस स्थिति में इंसान के मन यह बात घूमती रहती है जिसके कारण उन्हें इस प्रकार के सपने आ सकते हैं । तो आज का टॉपिक शुरू करते हैं ।

जैसा कि आप सभी को पता है मंदिर एक पवित्र स्थान होता है ठीक उसी प्रकार मंदिर को सपने में भी देखना बहुत शुभ सपना माना जाता है इसका मतलब होता है कि इंसान की इच्छा पूरी होने वाली है या फिर हो चुकी है अगर किसी खास काम मे लगे हुवे है तो समझ सकते हैं बहुत जल्दी पूरा होने वाली है। बहुत दिनो से आपको जिस चीज की तलाश है वो जल्द ही मिलने वाली है

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper