सपा में हो रहा था मेरा अपमान, इसलिए मुलायम से पूछकर बनायी नयी पार्टी: शिवपाल

लखनऊ: प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के गठन के बाद बुंदेलखंड दौरे पर निकले पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि सपा में मेरा अपमान हो रहा था। इसलिए मुलायम सिंह से पूछकर मैंने नयी पार्टी बनायी है।

झांसी जाने के दौरान नगर पहुंचे प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने स्थानीय जिला पंचायत सभागार में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि सपा में रहते उनके पास कई पद रहे हैं। इसके वावजूद भी उन्हें किसी मीटिंग में नहीं बुलाया जाता था। लगातार उनकी पार्टी में उपेक्षा हो रही थी। पार्टी में कुछ ऐसे भी लोग हैं, जो लगातार चापलूसी और चुगलखोरी करते रहे हैं। उनकी पार्टी में बात मानी जाती थी। लगातार हो रही उपेक्षा के कारण उन्होंने नयी पार्टी का गठन किया है।

मल्लिका आखिर लाइमलाइट से दूर क्यों

पार्टी के गठन से पहले उन्होंने मुलायम सिंह यादव से इसकी अनुमती ली थी। सपा में मुलायम सिंह की भी पूछ काम हो गई थी, लेकिन जबसे उनकी पार्टी का गठन हुआ है सपा में मुलायम का सम्मान बढ़ गया है। वहीं, उनकी पार्टी को भाजपा की दूसरी टीम माने जाने के सवाल पर शिवपाल सिंह ने कहा कि उन्होंने सपा में दो साल से भाजपा के खिलाफ सड़कों पर उतरने के लिए जद्दोजहद करते रहे, लेकिन जानबूझ कर उनकी नहीं सुनी गई।

उन्होंने अपने परिवार के भाई रामगोपाल यादव पर बिना नाम लिए निशाना साधते हुए कहा कि उनकी ही वजह से आज बीजेपी प्रदेश की सत्ता पर काबिज हो चुकी है। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार द्वारा लिए गए फैसलों से आज जनता त्रस्त हो चुकी है। उनकी पार्टी बीजेपी के विरुद्ध चुनाव लड़ेगी। यदि महागठबंधन बनता है तो वह भी उसका हिस्सा बनेंगे।

बशत्रे उन्हें महगठबंधन में उनके हिसाब से हिस्सा मिलना चाहिए। उन्होंने स्पष्ट किया कि उन्हें महागठबंधन में सपा से कोई परहेज नहीं है। वार्ता के दौरान पार्टी के बुंदेलखंड प्रभारी नन्हू राजा, प्रदेश अध्यक्ष आशीष चौबे, प्रदेश महामंत्री दीपू त्रिपाठी, जिलाध्यक्ष लाखन सिंह कुशवाहा मौजूद रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper