सबसे ज्यादा विरोध करने वाले से दोस्ती करो, संसद ठीक चलेगी : आजाद

नई दिल्ली: राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन आज सत्ता पक्ष को सीख देते हुए कहा कि सबसे ज्यादा विरोध करने वाले से दोस्ती करो तो संसद की कार्यवाही सुचारु रुप से चलेगी। आजाद ने सुबह राज्यसभा की कार्यवाही शुरू होने के बाद सदन के हाल में दिवंगत हुए सदस्यों को श्रद्धांजलि देते हुए यह टिप्पणी की।

सभापति एम. वेंकैया नायडू ने सुबह सदन की कार्यवाही शुरु करते हुए सदस्यों को सदन के पूर्व नेता, पूर्व केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के नेता अरुण जेटली, जगन्ननाथ मिश्र, गुरुदास दासगुप्ता और सुखदेव सिंह लिबड़ा के निधन की जानकारी दी और सदन की ओर से उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद आजाद ने जेटली की वाकपटुता और उनके मित्रवत् स्वभाव का उल्लेख करते हुए कहा, मैं संसदीय कार्य मंत्री को संसद की कार्यवाही चलाने के टिप्स् देता हूँ।

सबसे ज्यादा बोलने वाले और विरोध करने वाले से दोस्ती कर लो तो संसद की कार्यवाही ठीक चलेगी। इस समय सदन में संसदीय कार्य राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन मौजूद थे। विपक्ष के नेता ने अपने श्री जेटली के साथ अपने संबंधों का उल्लेख करते हुए कहा, जब मैं संसदीय कार्य मंत्री था तो मैंने उनसे (श्री जेटली) से झगड़ा कर लिया लेकिन कोई बात नहीं बनी। इसके बाद मैंने उनसे दोस्ती कर ली और संसद चल गई।

आरक्षित बर्थ नहीं मिलने पर रेलवे पर 25,000 का जुर्माना

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper