समाजवादी पार्टी दफ्तर से लेकर अखिलेश यादव के आवास तक पर पुलिस का पहरा, घर में कैद हुए विधायक

लखनऊ: यूपी विधानसभा सत्र से पहले समाजवादी पार्टी ने महंगाई, बेरोजगारी, कानून व्यवस्था, किसानों आदि मुद्दों को लेकर आज से प्रदर्शन का ऐलान किया था। हालाँकि प्रदर्शन से पहले ही सपा विधायकों के घर के बाहर पुलिस का पहरा लग चुका है। जी दरअसल प्रदेश कार्यालय से लेकर सपा प्रमुख अखिलेश यादव के आवास तक पुलिस का कड़ा पहरा लगाया जा चुका है। आपको बता दें कि सपा नेताओं को घरों में कैद किया जा चुका है। बताया जा रहा है हिरासत में लिए गए सपाइयों को ईको गार्डन भेजा जा चुका है। हालाँकि इस घटनाक्रम पर सपाइयों में आक्रोश है। आपको बता दें कि सपा ने कहा कि, ‘विधायकों को घर से निकलने नहीं दिया जा रहा है।’

जी दरअसल पार्टी ने इसकी घोर निंदा की है। दूसरी तरफ अखिलेश यादव ने ट्वीट कर योगी सरकार पर हमला बोला है। जी दरअसल समाजवादी पार्टी ने ट्वीट कर लिखा है, ‘समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के आवास और समाजवादी पार्टी के लखनऊ स्थित मुख्य कार्यालय को पुलिस ने घेर लिया है। समाजवादी पार्टी ने भाजपा सरकार की तानाशाही ,बिगड़ी कानून व्यवस्था ,बेरोजगारी ,महंगाई के खिलाफ आज धरना प्रदर्शन का आह्वान किया था ! योगी जी आप पुलिस और सत्ता के बल तथा तानाशाही करके जनहित के मुद्दे पर धरना प्रदर्शन करने वाले विधायकों को तो रोक सकते हैं लेकिन जनता को कैसे रोकेंगे। विपक्ष जनता की आवाज है, जनता की आवाज मत दबाइए।’

इसी के साथ सपा ने लिखा कि, ‘सत्ता के बल पर विपक्ष का पुलिसिया दमन ? जनता की आवाज उठाने पर सत्ता द्वारा विपक्ष के लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन ? जनता सब देख रही है , जनता भाजपा को जवाब देगी ! सुनिए योगीजी ! जनता जब जवाब देती है तो कुर्सी छीन लेती है , जनता के अधिकारों का हनन मत कीजिए ,जनता की आवाज सुनिए।’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper